GST को कचरे की टोकरी में फेंक देना चाहिए : कमल हासन

0
38

चेन्नई। अभिनेता से राजनेता बने कमल हासन राजनीति की पिच पर एक सधे खिलाड़ी की तरह कदम बढ़ाते दिख रहे हैं। जनता के साथ लगातार संपर्क स्थापित करने के साथ ही उनसे जुड़े मुद्दों को भी खूब उछाल रहे हैं। हासन पिछले दो दिनों से तमिलनाडु के इरोड में हैं और लगातार लोगों के बीच जनसंपर्क कर रहे हैं।

रविवार को जनसंपर्क के बाद पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने जीएसटी को लेकर सवाल उठाया। हासन ने कहा कि जीएसटी से हर सेक्टर को नुकसान पहुंचा है, इसे कचरे की टोकरी में फेंक देना चाहिए।

इरोड में पत्रकारों से बातचीत में हासन ने कहा, जीएसटी से तो किसी भी सेक्टर को कोई फायदा नहीं हुआ। हां, नोटबंदी में 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट को खत्म करने का फैसला सही था, लेकिन उसे (नोटबंदी) भी सरकार सही तरीके से आगे नहीं बढ़ा पाई। ऐसे में लोगों को दिक्कत भी हुई।

‘खेती में दिलचस्पी लें युवा’
इरोड में एक जनसभा को संबोधित करते हुए हासन ने युवाओं से अपील की कि वे सिर्फ इंजिनियरिंग और मेडिकल की तरफ करियर देखने की जगह कृषि के क्षेत्र में भी दिलचस्पी बढ़ाएं। हासन ने कहा, ‘देश की खेती योग्य जमीन युवाओं के इंतजार में है। युवाओं को आज की कृषि तकनीकों से रूबरू होकर इस क्षेत्र में कदम बढ़ाने की तरफ सोचना चाहिए।’

अचानक शराब पर प्रतिबंध ठीक नहीं
युवाओं के बीच मौजूद कमल हासन ने शराब के मुद्दे पर भी अपनी राय रखी। उन्होंने कहा कि किसी भी राज्य में एक दिन में शराब पर प्रतिबंध लगा देना संभव नहीं है।

उन्होंने कहा कि इसके लिए पहले लोगों को तैयार करना होगा। हासन ने कहा कि बिना जनता की राय लिए कोई सरकार सीधे शराब प्रतिबंधित कर दे तो संभव है कि यह संभव है कि लोग किसी और बुरी लत की तरफ मुड़ जाएं।

AIADMK को चेतावनी
बता दें कि इससे पहले कमल हासन ने सूबे में सत्तारूढ़ एआईएडीएमके को भी चेतावनी देते हुए कहा कि वह अपना तौर-तरीका बदल ले। हासन ने कहा कि अगर आप (एआईएडीएमके) नहीं बदलेंगे, तो हम कदम रख देंगे। हासन ने दावा भी किया कि वह प्रदेश में अगली सरकार बनाने की कोशिश करेंगे।