PNB फ्रॉड : चंदा कोचर और शिखा शर्मा को समन

0
25

मुंबई । पंजाब नैशनल बैंक से हुए फ्रॉड के मामले में सीरियस फ्रॉड इन्वेस्टिगेशन ऑफिस ने आईसीआईसीआई बैंक की सीएमडी चंदा कोचर और ऐक्सिस बैंक की शिखा शर्मा को नोटिस जारी किया है।

सूत्रों के मुताबिक एजेंसी ने दोनों बैंकों की प्रमुखों को नोटिस जारी कर गीतांजलि ग्रुप को वर्किंग कैपिटल फैसिलिटी दिए जाने पर जवाब मांगा है। सूत्रों के मुताबिक 31 बैंकों के कन्सॉर्टियम ने हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के गीतांजलि ग्रुप को 5,280 करोड़ रुपये की वर्किंग कैपिटल फैसिलिटी दी थी।

इस बीच पीएनबी फ्रॉड केस में सीबीआई ने गीतांजलि समूह के वाइस प्रेजिडेंट (बैंकिंग ऑपरेशंस) विपुल चितालिया को हिरासत में लिया है। सूत्रों के मुताबिक उन्हें पूछताछ के लिए ले जाया गया है। एसएफआईओ ने इस मसले पर पहले पीएनबी को नोटिस जारी किया था, अब एजेंसी ने कुछ अन्य बैंकों से इस बारे में जवाब मांगा है।

सूत्रों के अनुसार आईसीआईसीआई बैंक ने 405 करोड़ रुपये का लोन गीतांजलि ग्रुप को जारी किया था। इसके अलावा ऐक्सिस ने भी बड़ी राशि इस समूह को जारी की थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एसएफआईओ की ओर से कोचर और शिखा शर्मा से इस पर पूछताछ भी की जा सकती है।

सीरियस फ्रॉड इन्वेस्टिगेशन ऑफिस का कहना है कि बुधवार को पीएनबी के एमडी सुनील मेहता को भी समन जारी किया गया था। कॉर्पोरेट मामले मंत्रालय के तहत आने वाला एसएफआईओ का काम कारोबारी क्षेत्र में फ्रॉड की जांच करना है।

एसएफआईओ को संदेह है कि नीरव मोदी और मेहुल चौकसी ने देश भर में करीब 400 शेल कंपनियां बना रखी थीं, जिनमें देश भर में फर्जी डायरेक्टर भी थे और इनके जरिए रकम को देश से बाहर भेजने का काम किया गया।