PNB फ्रॉड: इंटरनल चीफ ऑटिडर गिरफ्तार, नीरव को लुकआउट नोटिस

0
396

नई दिल्ली। पीएनबी में 12,672 करोड़ रुपए के फ्रॉड मामले में सीबीआई ने बुधवार को बैंक के इंटरनल चीफ आॅडिटर एमके शर्मा को गिरफ्तार किया। उधर, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की पहल पर ब्यूरो ऑफ इमिग्रेशन ने फ्रॉड के मुख्य आरोपी हीरा कारोबारी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के खिलाफ लुकआउट/ब्लू कॉर्नर नोटिस जारी किया। फिलहाल दोनों देश से बाहर हैं। बता दें कि इस मामले में अब तक सीबीआई ने 13 लोगों को अरेस्ट कर चुकी है।

किसी ऑडिटर की पहली गिरफ्तारी
– जांच एजेंसी के मुताबिक, इंटरनल चीफ आॅडिटर एमके शर्मा के पास पीएनबी के ब्रैडी हाउस ब्रांच के ऑडिटिंग सिस्टम और उससे जुड़े कामों पर निगरानी रखने का काम था। साथ ही किसी भी तरह की अनियमितता के बारे में जोनल ऑडिट ऑफिस को रिपोर्ट करना था। सीबीआई शर्मा से इसी मामले में पूछताछ कर रही है।
– बता दें कि इस मामले में किसी ऑडिटर की यह पहली गिरफ्तारी है।
नीरव की 4 और प्रॉपर्टी अटैच
– इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने बुधवार को नीरव मोदी ग्रुप की 4 प्रॉपर्टी अटैच कीं। इसमें 13 करोड़ रुपए कीमत का अलीबाग स्थित फार्महाउस और अहमदनगर में 70 करोड़ रुपए कीमत का सोलर प्लांट शामिल है। इसके अलावा आईटी ने गीतांजलि ग्रुप के 1.45 करोड़ बैलेंस के 34 बैंक खाते और एफडी अटैच कीं।
अब तक क्या कार्रवाई हुई?
– पीएनबी घोटाले में ईडी ने देशभर में गीतांजलि ज्वेलर्स के शोरूम में छापेमारी की। इस दौरान 22 करोड़ रुपए की ज्वेलरी जब्त हुई और कई हजार करोड़ की प्रॉपर्टी अटैच की गई।
– वहीं, नीरव मोदी से जुड़ी 6,393 करोड़ से ज्यादा की प्रॉपर्टी जब्त की जा चुकी है। नीरव और चौकसी के ठिकानों से जब्त हुई ज्वेलरी और प्रॉपर्टी का वैल्यूएशन कराया जा रहा है।
– मामले में 28 फरवरी तक 13 लोगों को अरेस्ट किया गया। इनमें 6 बैंक अफसर और अन्य स्टाफ है।
क्या है पीएनबी घोटाला?
– पीएनबी ने पिछले दिनों सेबी और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को 11,421 करोड़ रुपए के घोटाले के जानकारी दी। घोटाला मुंबई की ब्रेडी हाउस ब्रांच में हुआ। 2011 से 2018 के बीच हजारों करोड़ की रकम 297 फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (LoUs) के जरिए विदेशी अकाउंट्स में ट्रांसफर की गई।
– पीएनबी ने हाल ही में सीबीआई को बैंक में 1,251 करोड़ के नए फ्रॉड की जानकारी दी। यह मेहुल चौकसी की कंपनी गीतांजलि जेम्स से जुड़ा है। इस तरह पीएनबी फ्रॉड 11,421 से बढ़कर 12,672 करोड़ हो गया है।