PNB फ्रॉड : मामला उजागर करने से कर्ज चुकाने के सारे रास्‍ते बंद : नीरव मोदी

0
22

मुंबई। देश के बैंकिंग इतिहास के सबसे बड़े पीएनबी फ्रॉड मामले के मास्‍टरमाइंड नीरव मोदी ने पहली बार बयान दिया है। नीरव मोदी ने कहा है कि PNB के अति उत्‍साह के चलते कर्ज चुकाने के सभी विकल्‍प बंद हो गए हैं।

नीरव मोदी ने यह भी दावा किया है कर्ज की रकम उतनी नहीं है जितना बताई जा रही है। नीरव मोदी ने कहा कि जो रकम सार्वजनिक रूप से बताई जा रही है, वो गलत है। नीरव मोदी ने पीएनबी को लिखे लेटर में ये बातें कही है।

न्‍यूज एजेंसी के मुताबिक 15 फरवरी को नीरव मोदी ने पीएनबी मैनेजमेंट को लेटर लिख ये बातें कही हैं। इसमें नीरव मोदी ने कहा है कि उसकी कंपनियों पर बैंक के 5 हजार करोड़ से भी कम के कर्ज हैं।

क्‍या लिखा है लेटर में
नीरव मोदी ने लेटर में लिखा है, मीडिया में इस मामले के आने के अलावा संपत्ति की छानबीन और जब्‍ती की वजह से हमारे इंटरनेशनल मार्केट का कारोबार प्रभावित हो रहा है। इस कदम से बैंकों के कर्ज अब खतरे में पड़ गए हैं। बता दें कि नीरव मोदी जनवरी के पहले सप्‍ताह में अपने परिवार के साथ फरार हो कर विदेश चले गए हैं।

13 फरवरी को दिया था ऑफर
नीरव मोदी ने लेटर में आगे लिखा है कि आपके एक्‍शन ने मेरे ब्रांड को नुकसान पहुंचाया है। लेटर के मुताबिक, 13 फरवरी को मेरे ऑफर के बावजूद आपने बकाया राशि लेने की जल्‍दी दिखाई और इसे सार्वजनिक कर दिया। आपके इस एक्‍शन से मेरे ब्रांड और बिजनेस को बड़ा नुकसान हुआ है। अब आपने बकाया की रिकवरी के रास्‍ते बंद कर दिए हैं।

5716 करोड़ की संपत्तियां जब्त
नीरव मोदी ने इस लेटर में अपने और बैंक अधिकारियों के बीच की बातचीत का भी जिक्र किया है। इसके अलावा 13 और 15 फरवरी 2018 को उसके ऑफर ईमेल को संबद्ध किया है।

बता दें कि जांच एजेंसियां घोटाला सामने आने के तुरंत बाद से ही उनकी संपत्तियों और ठिकानों पर कार्रवाई में जुटी हुई हैं। अब तक इस सिलसिले में 5716 करोड़ की संपत्तियां जब्त की जा चुकी हैं। साथ ही नीरव को भारत लाने के लिए जरूरी कार्रवाई पर भी काम शुरू कर दिया गया है।