PNB फ्रॉड: बैंक और फाइनेंस मिनिस्ट्री के अफसर विजिलेंस कमीशन में तलब

0
27

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में 11,356 करोड़ के फ्रॉड को लेकर प्रवर्तन निदेशालय, सीबीआई और इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के बाद केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) भी सक्रिय हो गया है। देश में बैंकिंग इंडस्ट्री की सबसे बड़ी धोखाधड़ी के मामले में आयोग ने शनिवार को पीएनबी मैनेजमेंट और फाइनेंस मिनिस्ट्री के अफसरों को तलब किया।

बता दें कि सीवीसी एक सेंट्रल बॉडी है, जो देश में भ्रष्टाचार के मामलों पर नजर रखती है। जनवरी के आखिरी हफ्ते में सामने आए बैंक फ्रॉड को लेकर सीबीआई ने 3 एफआईआर दर्ज की हैं।

सीवीसी को प्रजेंटेशन दे सकता है बैंक
– न्यूज एजेंसी के मुताबिक, सीसीवी ने बैंक और फाइनेंस मिनिस्ट्री के आला अफसरों को 19 फरवरी (सोमवार) को आयोग के सामने पेश होने को कहा है। सूत्रों की मानें तो पंजाब नेशनल बैंक के एमडी और सीईओ सुनील मेहता सोमवार को आयोग के सामने अपना पक्ष रखेंगे।
– इस दौरान उनके साथ बैंक के चीफ विजिलेंस अफसर (सीवीओ) भी मौजूद रहेंगे। पीएनबी के अफसर 11,356 करोड़ की धोखाधड़ी के मामले में सीवीओ को प्रजेंटेशन भी दे सकते हैं।
– वहीं, फाइनेंस मिनिस्ट्री की ओर से फाइनेंशियल सर्विसेज डिपार्टमेंट के एडिशनल सेक्रेटरी भी सीवीसी के सामने हाजिर हो सकते हैं।

बैंक से विजिलेंस सिस्टम का रिव्यू होगा
– सूत्रों के मुताबिक, सीवीसी के ऑर्डर के बाद शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पीएनबी मैनेजमेंट और मिनिस्ट्री के सीनियर अफसरों की मीटिंग हुई।
– अब सोमवार को सतर्कता आयोग बैंक के विजिलेंस मॉनिटरिंग सिस्टम का रिव्यू करेगा। इसके बाद इसमें सुधार को लेकर फैसला लिया जा सकता है।
– पीएनबी फ्रॉड को लेकर बैंकिंग एसोसिएशन शनिवार को देश के सभी पब्लिक सेक्टर (पीएसयू) बैंकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मीटिंग करेगा।

क्या है बैंक फ्रॉड का मामला?
– पंजाब नेशनल बैंक ने पिछले दिनों सेबी और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को 11,356 करोड़ रुपए के घोटाले के जानकारी दी थी। घोटाले को पीएनबी की मुंबई की ब्रेडी हाउस ब्रांच में अंजाम दिया गया। शुरुआत 2011 से हुई। 7 साल में हजारों करोड़ की रकम फर्जी लेटर ऑफ अंडरस्टैंडिंग (LoUs) के जरिए विदेशी अकाउंट्स में ट्रांसफर की गई।

सीबीआई ने दर्ज कीं 2 एफआईआर
– पीएनबी की ओर से 28 जनवरी को सीबीआई को फ्रॉड की शिकायत मिली। इसके बाद 31 जनवरी को सीबीआई ने पहली और 13 फरवरी को दूसरी एफआईआर दर्ज की। फ्रॉड में हीरा कारोबारी नीरव मोदी, गीतांजलि जेम्स के मालिक मेहुल चौकसी समेत कई कंपनियां के नाम शामिल हैं। नीरव और चौकसी देश छोड़कर भाग चुके हैं।
– देशभर में उनके ठिकानों पर ईडी, सीबीआई और इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की छापेमारी जारी है। शुक्रवार को विदेश मंत्रालय ने नीरव और चौकसी के पासपोर्ट 4 हफ्ते के लिए सस्पेंड कर दिए थे। उनके खिलाफ सीबीआई और इंटरपोल ने नोटिस जारी किया है।