राजस्थान बजट: किसानों के लिए 500 करोड़ के कर्ज माफ़ी का ऐलान

0
87

नई दिल्ली। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे राज्य का बजट पेश कर रही है। ये वसुंधरा राजे का आखिरी पूर्णकालिक बजट है क्योंकि साल के आखिर में राज्य में चुनाव होने हैं। इसलिए इस बजट में किसानों पर ज्यादा फोकस किया है। बजट में राजे ने किसानों के कर्ज माफ के लिए 500 करोड़ रुपए के फंड का ऐलान किया है। बजट में कोई नया टैक्स लगाया गया है।

किसानों का कर्ज माफ
राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने किसानों का सितंबर 2017 तक का कर्ज माफ करने के लिए 500 करोड़ रुपए के फंड का ऐलान किया है। किसानों का एकमुश्त 50 हजार रुपए का कर्ज माफ किया जाएगा। इससे करीब 40 लाख को फायदा पहुंचेगा। भू-राजस्व भी माफ किया जाएगा। लघु और सीमांत किसानों का ब्याज माफ किया जाएगा। सात लाख नए विद्युत कनेक्शन दिए जाएंगे, किसानों के हितों में 2 लाख कृषि कनेक्शन दिए जाएंगे।

ईज ऑफ डूईंग बिजनेस में किए ऐलान
अब राज्य में कारोबार को आसान बनाने के लिए 518 सर्विस को ऑनलाइन किया जाएगा। जीएसटी लागू होने के बाद राजस्थान राज्य में 1.81 लाख नए कारोबारियों ने रजिस्ट्रेशन कराया है। जीएसटी आने बाद राज्य में करीब 35 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

जीएसटी की दरें कम करने कि लिए प्रयासरत
राजस्थान सरकार ने जिन प्रोडक्ट पर टैक्स की दरें नहीं बताई गई थी उस पर टैक्स रेट तय कराए गए। इसमें मेहंदी के कोन पर जीएसटी काउंसिल ने टैक्स रेट तय नहीं किया था, इस पर राजस्थान सरकार ने टैक्स रेट 5 फीसदी तय कराया। अब राजस्थान सरकार कोटा स्टोन पर जीएसटी टैक्स खत्म कराने की दिशा में प्रयासरत है।

बजट में पेपरलैस पर ज्यादा फोकस
राजे ने कहा कि वह राजस्थान में को पेपरलैस बनाना चाहती है। उन्होंने बजट में पेपरलैस ड्राइविंग लाइसेंस बनाने की घोषणा की है। इसके अलावा कृषि भूमि के ट्रांसफर करने कि लिए 16 तहसीलों मे ई-पंजीयन किया जाएगा।

बजट की प्रमुख बातें
– मुख्यमंत्री सक्षम योजना से 5 लाख बालिकाओं का फायदा
– सभी विधानसभा क्षेत्रों में सड़कों का निर्माण होगा
– 80 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को रोडवेज में फ्री सफर
– सभी विधानसभा क्षेत्रों में सड़कों का निर्माण होगा।
– नाबार्ड योजना के तहत काम किए जाएंगे।
– नई रेल लाइन जोड़ने की योजना शुरू की जा रही है। यह पश्चिमी राजस्थान के विकास के लिए वरदान।
– जैसलमेर आर बाड़मेर को मुंद्रा पोर्ट से जोड़ा जाएगा।
– ड्राइविंग लाइसेंस, व्हीकल रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया होगी पेपरलैस।
– 13 लाख से ज्यादा युवाओं को रोजगार, स्वरोजगार के अवसर।
– देश में पहली स्किल यूनिवर्सिटी की स्थापना।
– दिल्ली जाने वालों के लिए बनेगा अंडरपास।
– जयपुर के रामनिवास बाग में बनेगा अंडरपास।
– पुराने जयपुर की लौटेगी रौनिक।
– डार्क जोन वाले जिलों को नदी परियोजना से जोड़ा जाएगा, इसमें दौसा, करौली, सवाई माधोपुर जैसे जिले शामिल।
– अकलेरा में नाली के लिए 10 करोड़।
– द्रव्यवती नदी के रूप का होगा कायाकल्प।