सेंसेक्स 250 अंक गिरा, निवेशकों के डूबे 1.12 लाख करोड़ रुपए

0
22

नई दिल्ली। बजट से दो दिन पहले घरेलू शेयर बाजार में तेजी पर ब्रेक लग गया। बजट से पहले बाजार में मुनाफावसूली की वजह मंगलवार को सेंसेक्स और निफ्टी गिरावट के साथ बंद हुए। हैवीवेट रिलायंस इंडस्ट्रीज, टीसीएस, इंफोसिस, मारुति, एचडीएफसी, ओएनजीसी और एचडीएफसी बैंक में बिकवाली से बाजार पर दबाव बना। जिससे कारोबार के अंत में सेंसेक्स 250 अंक टूटकर 36,033 अंक पर बंद हुआ।

वहीं निफ्टी 81 अंक लुढ़ककर 11,050 अंक पर बंद हुआ। वहीं कमजोर ग्लोबल संकेतों और आज से शुरू हो रही फेडरल रिजर्व की बैठक से निवेशकों का सेंटीमेंट्स प्रभावित हुआ। बाजार में गिरावट से एक दिन में निवेशकों के 1 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा डूब गए।

क्यों आई बाजार में कमजोरी
– ट्रेडस्विफ्ट ब्रोकिंग के डायरेक्टर संदीप जैन का कहना है कि बजट से पहले मार्केट में घबराहट दिख रही है। जिसकी वजह से बाजार में गिरावट हावी है।
– इसके अलावा मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में प्रॉफिट बुकिंग हो रही है। मिडकैप और स्मॉलकैप शेयर काफी बढ़ भी चुके थे।
– आज से यूएस फेडरल रिजर्व की दो दिवसीय बैठक शुरू हो रही है। इसमें ब्याज दरें बढ़ने की उम्मीद है। जिसका भी असर मार्केट पर दिख रहा है।
– वहीं सोमवार को अमेरिकी बाजारों में कमजोरी देखने को मिली, जिसका असर एशियाई बाजारों पर हुआ।
– एशियाई बाजारों में गिरावट से घरेलू बाजार कमजोर हुआ है।

निवेशकों के डूबे 1.12 लाख करोड़ रुपए
बाजार में गिरावट से एक दिन में निवेशकों के 1 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा डूब गए।  सोमवार को बीएसई पर लिस्टेड कुल कंपनियों का मार्केट कैप 1,55,13,306.93 करोड़ रुपए था। वहीं मंगलवार को बीएसई का मार्केट कैप 1,54,01,216 करोड़ रुपए रहा। इस तरह निवेशकों को एक दिन में 1,12,090.93 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ।

50 से ज्यादा स्टॉक 52 हफ्ते के निचले स्तर पर
बाजार में कमजोरी से बीएसई पर 50 से ज्यादा स्टॉक 52 हफ्ते के निचले स्तर पर पहुंच गए। इनमें आदित्य बिड़ला कैपिटल, अपोलो माइक्रो सिस्टम्स, भूषण स्टील शामिल हैं।

मिडकैप-स्मॉलकैप शेयर लुढ़के
लार्जकैप शेयरों के साथ मिडकैप औऱ स्मॉलकैप शेयरों में भी गिरावट देखने को मिली। बीएसई का मिडकैप इंडेक्स 0.67 फीसदी गिरकर 17,591 अंक पर बंद हुए। वहीं बीएसई के स्मॉलकैप इंडेक्स में 1.34 फीसदी की गिरावट रही।

सभी सेक्टोरल इंडेक्स टूटे, रियल्टी इंडेक्स 1% से ज्यादा गिरा
– मंगलवार के कारोबार में बैंक, ऑटो समेत सभी सेक्टोरल इंडेक्स में कमजोरी देखने को मिली। बैंक निफ्टी इंडेक्स 0.83 फीसदी टूटकर 27,269 अंक पर बंद हुए। इसके अलावा निफ्टी आईटी में 1.02 फीसदी, निफ्टी एफएमसीजी में 0.16 फीसदी, निफ्टी मेटल में 0.59 फीसदी, निफ्टी ऑटो में और निफ्टी फार्मा में 0.61 फीसदी गिरावट रही।
– सबसे ज्यादा गिरावट निफ्टी रियल्टी इंडेक्स में 1.12 फीसदी दर्ज की गई।
– वहीं बीएसई कैपिटल गुड्स, कंज्यूमर डुरेबल्स और पावर इंडेक्स में भी गिरावट का रुख रहा, जबकि बीएसई ऑयल एंड गैस इंडेक्स में 1.16 फीसदी की तेजी रही।

RCom में 19 फीसदी का उछाल
अनिल अंबानी की कर्ज में दबी कंपनी रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) का तीसरी तिमाही में घाटे में कमी दर्ज की गई है। फाइनेंशियल ईयर 2018 की तीसरी तिमाही में घाटे में कमी से मंगलवार के कारोबार में आरकॉम के शेयरों में 19 फीसदी तक की बढ़त देखने को मिली।

IOC का मुनाफा 97% बढ़ा, 19 रुपए प्रति शेयर डिविडेंड का एलान
फाइनेंशियल ईयर 2018 की तीसरी तिमाही में आईओसी का मुनाफा 97 फीसदी बढ़ गया है। इस दौरान कंपनी को 7883 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ है। फाइनेंशियल ईयर 2017 की तीसरी तिमाही में कंपनी को 3994 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था। कंपनी बोर्ड ने 1 पर 1 बोनस शेयर देने का एलान किया है। आईओसी के बोर्ड ने 19 रुपए प्रति शेयर डिविडेंड देने का एलान किया है।

TCS फिर बनी देश की मोस्ट वैल्युड कंपनी, RIL को छोड़ा पीछे
देश की सबसे बड़ी आईटी कंपनी टीसीएस एक बार फिर देश की मोस्ट वैल्युड कंपनी बन गई है। सोमवार के कारोबार में टीसीएस ने रिलायंस इंडस्ट्रीज को पीछे छोड़ते हुए यह मुकाम हासिल की।

टीसीएस का मार्केट 6.11 लाख करोड़ रुपए रहा। वहीं आरआईएल का मार्केट कैप 6.10 लाख करोड़ रुपए रहा। मार्केट कैप के हिसाब से टीसीएस देश की सबसे बड़ी कंपनी बन गई।

FII और डीआईआई रहे खरीददार
 सोमवार के कारोबार में डोमेस्टिक इंस्टीट्यूशनल इन्वेस्टर्स (डीआईआई) के मुकाबले फॉरेन इंस्टीट्यूशनल इन्वेस्टर्स (एफआईआई) ने भारतीय शेयर बाजार में ज्यादा खरीददारी की। डीआईआई ने जहां 90.08 करोड़ रुपए के शेयर खरीदे। वहीं एफआईआई ने 291.86 करोड़ रुपए बाजार में निवेश किए।