कोटा यूनिवर्सिटी : हर साल कॉपी चेकिंग में 3 करोड़ खर्च, फिर भी गलतियां

0
43

कोटा। कोटा यूनिवर्सिटी की ओर से हर साल तीन करोड़ रुपए कॉपी चैक करने वालों पर खर्च करने के बावजूद गलतियां रुकने का नाम नहीं ले रही है। अब तक काॅलेजों से ही कॉपी सही चेक नहीं करने, गणना ठीक से नहीं करने, आंसर नहीं जांचने सहित अन्य शिकायत आती थी। पर अब यूनिवर्सिटी कैंपस के स्टूडेंट्स की कॉपियां में गलतियां सामने आ रही है।

औसतन एक स्टूडेंट से 1500 रुपए एग्जामिनेशन शुल्क लिया जाता है। ऐसे में कुल दो लाख तीस हजार से हर साल 34 करोड़ रुपए का राजस्व स्टूडेंट्स से होता है। रविवार को हाल में जारी पहले व तीसरे सेमेस्टर के परिणामों में गलतियां पाए जाने के बाद कॉपी चेक करने के संबंध में पड़ताल की ताे चौंकाने वाली बातें सामने आई।

2011 में हुई थी कार्रवाई : कॉपी जांचने में लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ साल 2011 में आखिरी बार कार्रवाई की गई थी। इसके बाद कोई एक्शन नहीं लिया गया। दूसरी ओर आरटीयू हर सेमेस्टर एग्जाम लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों के खिलाफ डिबार की कार्रवाई करते हुए उनके नाम सार्वजनिक करता है।

कोटा यूनिवर्सिटी के नियमों के अनुसार ही अगर फर्स्ट एग्जामिनर व सेकंड एग्जामिनर के बीच जांच कई एक कॉपी में 30 प्रतिशत से अधिक अंकों का अंतर आता है तो फर्स्ट एग्जामिनर के खिलाफ कार्रवाई का प्रावधान है।

रिजल्ट बिगड़ने पर स्टूडेंट्स ने किया प्रदर्शन
कोटा यूनिवर्सिटी के फिजीक्स व कैमेस्ट्री डिपार्टमेंट में पढ़ने वाले स्टूडेंट्स ने रिजल्ट खराब आने व कॉपी जांचने में लापरवाही करने के विरोध में प्रदर्शन किया। कोटा यूनिवर्सिटी अध्यक्ष पिंकेश मीणा ने नेतृत्व में छात्रों ने यूनिवर्सिटी का मेन गेट को बंद कर दिया। इस कारण कई स्टूडेंट्स को अंदर जाने के लिए इंतजार करना पड़ा।

प्रदर्शन करने वाले छात्रों ने गेट के बाहर ही टायर जलाया और यूनिवर्सिटी प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। छात्रसंघ अध्यक्ष मीणा ने बताया कि बीएससी ऑनर्स और कैमेस्ट्री में बहुत खराब रिजल्ट रहा है। 35 में से मात्र अधिकांश स्टूडेंट्स के बैक आई। अन्य पेपर में अच्छे अंक आए।

इसके बावजूद एक दो पेपर में कॉपी जांचने वाले की लापरवाही के कारण सभी का रिजल्ट बिगड़ गया। यूनिवर्सिटी प्रशासन ने छात्रों को उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है। प्रदर्शन करने वालों में पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष विजय सिंह सहित अन्य छात्र शामिल थे। छात्रों ने कहा कि अगर समाधान नहीं हुआ और भी बड़ा आंदोलन किया जाएगा।

शिकायत है तो आवेदन करें
परीक्षा के बाद अगर किसी छात्र को शिकायत है तो वह नियमानुसार आवेदन कर सकता है। परीक्षा व कॉपी में गलती संबंधी शिकायत कम ही आती है। किसी कॉपी जांचने वाले के खिलाफ कार्रवाई करने जैसा कोई मामला सामने ही नहीं आया है। – प्रवीण भार्गव, परीक्षा नियंत्रक, कोटा यूनिवर्सिटी