कोटा संभाग को मिलेगी 729 करोड़ की सड़कों की सौगात

0
49

कोटा । कोटा संभाग को इसी माह 729.23 करोड़ रुपए की लागत की सड़क परियोजनाओं की सौगात मिलेगी। बारां कृषि उपज मंडी में 15 दिसम्बर को आयोजित होने वाले एक समारोह में कोटा संभाग के लिए स्वीकृत 294.03 किलोमीटर लम्बाई के सड़क विकास कार्यों के उद्घाटन और शिलान्यास किए जाएंगे। 6489.59 करोड़ की परवन वृहद सिंचाई परियोजना के कार्य का शुभारंभ भी किया जाएगा।

सड़क कार्यों का शिलान्यास
कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी ने कहा कि मुख्य अतिथि के रूप में केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग एवं जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी के आने की संभावना है। समारोह में राष्ट्रीय राजमार्ग-12 पर 30 करोड़ रुपए की लागत से 20 किमी लम्बी सड़क के सुदृढ़ीकरण कार्य का शिलान्यास किया जाएगा।

वहीं पीपीपी परियोजना के तहत स्टेट हाइवे-74 पर कनवास-खानपुर-अकलेरा के बीच 175 करोड़ की लागत से 74.82 किमी, स्टेट हाइवे-74 ए पर देवली-कनवास के बीच 34.78 करोड़ की लागत से 14.85 किमी तथा स्टेट हाइवे-19 सी पर अलोट-गंगधार-सुवासरा के बीच 58.11 करोड़ रुपए की लागत से 24.55 किमी लम्बाई के सड़क कार्यों का शिलान्यास होगा।

पांच उच्च स्तरीय पुलों का भी उद्घाटन
संभाग में सड़कों के उन्नयन के लिए सेंट्रल रोड फंड (सीआरएफ) के तहत करीब 431 करोड़ की लागत से करवाए गए सड़क विकास कार्यों तथा नवनिर्मित पांच उच्च स्तरीय पुलों का उद्घाटन भी किया जाएगा। काली सिंध, आहू, उजाड़ तथा कालीखाड़ नदियों पर विभिन्न मार्गों पर 133.48 करोड़ रुपए की लागत से उच्च स्तरीय पुलों का निर्माण किया गया है।

भाजपा देहात कार्यकर्ताओं की शुक्रवार को जीएमए प्लाजा में तैयारियों को लेकर बैठक हुई। इसमें कृषि मंत्री ने कहा कि कांग्रेस शासन में परवन परियोजना को अटकाए रखा गया। अब भाजपा सरकार इसका काम करवाएगी। बारां में होने वाले उद्घाटन कार्यक्रम में अधिक से अधिक संख्या में पहुंचने का आह्वान किया।

सांसद ओम बिरला ने कार्यकर्ताओं को केन्द्र और राज्य सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ अंतिम कड़ी तक पहुंचाने पर जोर दिया। सांगोद विधायक हीरालाल नागर ने कहा कि इस परियोजना से सांगोद क्षेत्र के 48 गांवों तथा कनवास तहसील के गांवों को भी फायदा मिलेगा।

विधायक चन्द्रकांत मेघवाल के नेतृत्व में झालावाड़ जिले में निर्माणाधीन रेवा सिचांई परियोजना से बनने वाली 9 किमी नहर को पूर्व सर्वे अनुसार बनाने की मांग की गई। इस नहर का 4 किमी झालावाड़ जिले एवं 5 किमी कोटा जिले में निर्माण प्रस्तावित है। इसमें रामगंजमडी विधानसभा क्षेत्र की लगभग 5 हजार बीघा जमीन उदपुरिया, गादिया, हनौतिया व गोला सहित कई गांवों की भूमि सिचिंत होगी