हाड़ौती की क्षत्राणियां बोलीं- फिल्म आई तो भंसाली की गर्दन पर होगी तलवार

0
44
  • फिल्म पद्मावती के विरोध में कुलदेवी आशापुरा माता मंदिर में हुई बैठक, पोस्टर जलाए

  • आज बूंदी के पूर्व राज परिवार के यहां प्रदर्शन

कोटा। हाड़ौती की क्षत्राणियां भी संजय लीला भंसाली की फिल्म “पद्मावती” के विरोध में गई हैं। उन्होंने रविवार को कोटा के किशोरपुरा इलाके में स्थित कुलदेवी आशापुरा माता मंदिर पर एक बैठक की और भंसाली को तलवार लहराते हुए चेतावनी दे दी। उन्होंने कहा कि वे किसी भी सूरत में फिल्म को रिलीज नहीं होने देंगे। हमने तलवारें उठा ली हैं।

युवतियों ने कहा कि फिल्म रिलीज हुई तो महिलाओं की तलवार संजय लीला भंसाली की गर्दन पर होगी। वहीं, महिलाओं ने पद्मावती फिल्म के पोस्टर की भी होली जलाई। संभागीय अध्यक्ष बुंदेल सिंह ने बताया कि वे बूंदी के पूर्व राज परिवार के यहां सोमवार को प्रदर्शन करेंगे।

इतिहास से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं : रश्मि
करणीसेना की जिलाध्यक्ष रश्मि राठौड़ ने कहा कि फिल्म में इतिहास के साथ छेड़छाड़ की गई है, जिसको क्षत्राणियां बर्दाश्त नहीं करेंगी। वहीं, तपस्या नरुका ने चेतावनी दी कि अगर भंसाली ने फिल्म को रिलीज की तो महिलाओं की तलवार भंसाली की गर्दन पर होगी। संभागीय अध्यक्ष बुंदेल सिंह ने बताया कि वे बूंदी के पूर्व राज परिवार के बयान के खिलाफ कापरेन में उनके घर पर सोमवार को प्रदर्शन करेंगे।

राजपूत संस्कृति सेे हो रहा खिलवाड़ : नीना
करणीसेना की प्रदेश महामंत्री नीना छापोल ने कहा कि फिल्म में पद्मावती का मजाक उड़ाया जा रहा है। राजपूत संस्कृति और इतिहास से खिलवाड़ किया है। इस फिल्म को हर तरीके से बैन होना चाहिए। क्षत्राणियों ने जब भी तलवार उठाई तो कुछ करके ही रहेंगी।

महिलाओं ने फिल्म के खिलाफ तलवार उठा ली है। फिल्म अभी रुकी नहीं है। फिल्म मेकर नाटकबाजी कर रहे हैं। क्षत्रियों का तांडव देख चुके हैं। भंसाली अब देख लें, क्षत्राणियों ने तलवारें उठा ली है। जौहर आज भी हो सकता है। भंसाली हमें मजबूर नहीं करें।

प्रधानमंत्री को भेजे जाएंगे पोस्ट कार्ड
नीना छापोल ने कहा कि जल्द ही करणी सेना जन हस्ताक्षर अभियान पूरे कोटा शहर में चलाकर सर्व समाज के लोगों को जोड़ेगी और पोस्टकार्ड प्रधानमंत्री को भेजे जाएंगे। मीनाक्षी नाथावत ने भंसाली के ऊपर कटाक्ष करते हुए कहा कि हम क्षत्राणियों ने चूड़ियां पहनने से पहले तलवार उठाना सीखा है।

इस दौरान मंजीत सिंह नाथावत, निर्भय सिंह, पूर्णा हाड़ा, महिपाल सिंह हाड़ा, वर्षा शक्तावत, भवानी सोलंकी, वीरेंद्र सिंह हाड़ा, मोहित सिंह, अमर सिंह, गजेंद्र सिंह, रवि सिंह, गौरव सिंह, कमल सिंह, प्रताप सिंह, प्रगेश सिंह, स्नेहा हाड़ा, मधु कंवर हाड़ा, गुंजन झाला, सुनीता हाड़ा साक्षी हाड़ा उपस्थित थीं।