एमएसएमई उत्पादकों, क्रेता-विक्रेताआें के बीच सीधा संवाद 16 को

0
511

जयपुर। प्रमुख शासन सचिव एमएसएमई डॉ. सुबोध अग्रवाल ने कहा है कि 16 नवंबर से प्रदेश में उत्पादकों और क्रेता-विक्रेताआें के बीच सीधा संवाद कायम करने के लिए वायर सेलर मीट का आयोजन शुरु किया जाएगा। उन्होंने बताया कि पहली वायर सेलर मीट 16 नवंबर को अजमेर में आयोजित की जाएगा।

डॉ. सुबोध अग्रवाल मंगलवार को उद्योग भवन में आयुक्त कुंजीलाल मीणा के साथ एमएसएमई संस्थाओं व विभागीय अधिकारियों की बैठक ले रहे थे। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने इस वर्ष को एमएसएमई वर्ष घोषित करते हुए अन्य कार्यों के साथ ही उत्पादकों व के्रताओं के बीच सीधा संवाद कायम करने के भी निर्देश दिए थे।

उन्होंने बताया कि इस वित्तीय वर्ष में 8 वायर सेलर मीट व वेण्डर डवलपमेंट कार्यक्रमों को अंंतिम रुप दिया जा चुका है। इनमें जयपुर में 3, अजमेर, अलवर, भिवाड़ी, जोधपुर और उदयपुर में एक-एक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

डॉ. अग्रवाल ने बताया कि उद्यम प्रोत्साहन संस्थान अजमेर द्वारा 16 नवंबर को अजमेर में आयोजित वायर सेलर मीट और वेण्डर डवलपमेंट कार्यक्रम में संभाग के मिनरल व इंजीनियंरिग आधारित औद्योगिक प्रतिष्ठान और क्रेता-विक्रेता हिस्सा लेंगे। उन्होंने कहा कि इससे बाजार की मांग को समझने और एक दूसरे के अनुभवों को साझा करने का अवसर मिलेगा।

उन्होंने बताया कि राज्य के औद्योगिक विकास को गति देने और प्रदेश में औद्योगिक विकास से प्रदेशवासियों से सीधा जुड़ाव तय करने के लिए राज्य, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के मेले प्रदर्शनियों का आयोजन किया जा रहा है ताकि राज्य के उद्योगों को बाजार मिल सके, प्रदेशवासी उत्पादों से रुबरु हो सके और उत्पादक और उपभोक्ताओं के बीच सीधा जुड़ाव बन सके।

बैठक में सचिव खादी बोर्ड से सचिव अल्पा चौधरी, प्रमीला भंसाली, अतिरिक्त निदेशकों में डीसी गुप्ता, एलसी जैन, पीके जैन, संयुक्त निदेशकों में संजीव सक्सैना, एसएस शाह, सीएल वर्मा, उपनिदेशक पीआर शर्मा, एसएल पालीवाल, रवीश कुमार, आरएसडीसी के महाप्रबंधक नायाब खान, रीको, प्रदुषण बोर्ड, बीआईपी, राजसिको, राजस्व, बुनकर संघ व उद्योग विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।