एनसीडीईएक्स के नैशनल ई रिपोजिटरी लिमिटेड का शुभारम्भ 

0
58

इन्वेंट्री वित्तपोषण को सक्षम करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक निगोशियेबल गोदाम रसीद बनाने के लिए एक मजबूत विनियमित संस्थागत ढांचा प्रदान करेगा

नई दिल्ली।  खाद्य और सार्वजनिक वितरण, उपभोक्ता मामले के मंत्री,राम विलास पासवान ने मंगलवार को  इलेक्ट्रॉनिक निगोशिएबल वेयरहाउसिंग रसीद (eNWR) के शुभारंभ के साथ ही  कमोडिटी और वेयरहाउसिंग उद्योग में एक ऐतिहासिक दिन चिन्हित किया। 

कमोडिटीज (वस्तुओं) के व्यापार में शामिल लोगों, जैसे कि किसान, व्यापारियों, प्रोसेसर और एग्रीगेटर,की वित्तीय आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए नैशनल ई रिपोजिटरी लिमिटेड (NERL) के तहत उत्पन्न पहली ईएनडब्ल्यूआरआर, इलेक्ट्रॉनिक गोदाम रसीद ऋण देने के लिए एक मजबूत विनियमित संस्थागत ढांचा प्रदान करेगी।

इस पहले ईएनडब्ल्यूआर (eNWR) के साथ, एनईआरएल को आज औपचारिक रूप से आरम्भ किया गया जो कि वेयरहाऊसिंग (गोदाम) विकास और विनियामक प्राधिकरण (WDRA) के तत्वावधान में काम करेगा।

ई-रिपोजिटरी के लिए सेवाएं प्रदान करने वाले प्रमुख प्रतिभागियों में से एक एनईआरएल को कृषि कमोडिटी एक्सचेंज,नैशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्ज एक्सचेंज लिमिटेड (एनसीडीईएक्स), नैशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवेलपमेंट (नाबार्ड), आईसीआईसीआई और एसबीआई ने स्थापित किया है।  

एनसीडीईएक्स के प्रबंध निदेशक और सीईओ, समीर शाह ने कहा, कि इसका उद्देश्य बकाया रसीदों को बैंकों के लिए विश्वसनीय और बाज़ार योग्य उधार देने वाले साधन बनने में मदद करना है और इस प्रकार से कमोडिटी की मूल्य-श्रृंखला में पूंजी के प्रवाह में सुधार करना है। 

इलेक्ट्रॉनिक निगोशिएबल गोदाम रसीदों के माध्यम से, एनईआरएल गोदाम आधारित कमोडिटी व्यवहार के  लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए उत्प्रेरक के रूप में कार्य करेगी।

नईआरएल के सीईओ, केदार देशपांडे ने कहा, “एनईआरएल सभी इलेक्ट्रॉनिक निगोशिएबल गोदाम रसीदों (ईएनडब्ल्यूआर) के निर्माण, भंडारण, सुरक्षा, प्रामाणिकता और हस्तांतरण के लिए, भंडार के उपयोगकर्ताओं, जैसे गोदाम सेवा प्रदाताओं, बैंकों, वित्तीय संस्थानों, किसानों, व्यापारियों और मूल्य-श्रृंखला प्रतिभागियों के बीच एक विनियमित रूपरेखा के भीतर उत्तरदायी होगा।”

इआरएल सिस्टम एक्सचेंज इकोसिस्टम के बाहर कमोडिटी ट्रेडिंग के लिए व्यापक दृश्यता, ट्रैसबिलिटी और ऑफ-मार्केट ट्रांसफर पेश करेंगे।

यह निजी और सरकारी स्वामित्व वाले, छोटे और मध्यम सहित सभी प्रकार के गोदाम सेवा प्रदाताओं का समावेश करेगी.बैंकों ने बड़े पैमाने पर गोदाम रसीदों की बंधक के सामने कर्ज देना शुरू कर दिया है।

वेयरहाउस रसीद बाजार का वर्तमान आकार लगभग 40,000 करोड़ रुपये होने का अनुमान है और निगोशियेबल गोदाम रसीदों का आकार 5000 करोड़ रुपये होने का अनुमान है।