8 % पर पहुंचेगी जीडीपी, नीति आयोग को उम्मीद

0
29

कार्य योजना में अर्थव्यवस्था के अगले दो-तीन साल में आठ फीसदी की वृद्घि दर पर लौटने की उम्मीद जताई गई है

नई दिल्ली । मुख्यमंत्रियों के बीच मसौदा भेजे जाने के लगभग तीन महीने बाद केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को नीति आयोग की तीन वर्षीय कार्य योजना पेश की।

इस कार्य योजना में अर्थव्यवस्था के अगले दो-तीन साल में आठ फीसदी की वृद्घि दर पर लौटने की उम्मीद जताई गई है, वहीं उन आलोचनाओं का भी जवाब दिया गया है जिनमें कहा जा रहा है कि वृद्घि रोजगार-अनुकूल नहीं है।

जीडीपी के लिए इस तरह की संभावना ऐसे समय में सामने आई है जब आर्थिक समीक्षा में कहा जा चुका है कि चालू वित्त वर्ष के लिए 7.5 फीसदी की वृद्घि दर हासिल करना कठिन होगा। वर्ष 2016-17 में अर्थव्यवस्था 7.1 फीसदी की दर से बढ़ी।

चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के लिए आंकड़ा इस महीने के अंत में जारी किया जाएगा और यह 2017-18 के लिए वृद्घि का संकेत देगा।

कार्य योजना को जारी करने की पहल को नीति आयोग के निवर्तमान उपाध्यक्ष और कार्य योजना की रूपरेखा तैयार करने में अहम योगदान देने वाले अरविंद पानगडिय़ा के लिए यादगार विदाई के तौर पर देखा जा रहा है।

इसमें कहा गया है कि इसकी अच्छी संभावना है कि अर्थव्यवस्था अगले दो से तीन वर्षों में 8 फीसदी की वृद्घि की राह पर लौटेगी।

एक्शन एजेंडे (2017-18 से शुरू हुआ है और 2019-20 में समाप्त होगा) में उन आलोचनाओं का जवाब दिया गया है कि भारत की वृद्घि रोजगार योग्य नहीं है।

इसमें कहा गया है कि राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण कार्यालय के इम्पलॉयमेंट अनइम्पलॉयमेंट सर्वेज में तीन दशक से अधिक समय से बेरोजगारी की लगातार कम और स्थिर दरों की जानकारी दी है।