सूर्य ग्रहण 21 को, जानें किस राशि में क्या होगा असर

0
103

कोटा । सोमवार की रात को साल का सबसे बड़ा सूर्य ग्रहण पड़ने जा रहा है। यह ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा लेकिन आकाशमंडल में मौजूद ग्रहों, नक्षत्रों और तारों में इसका असर पड़ेगा।

यह सूर्य ग्रहण एक पूर्ण सूर्य ग्रहण होगा। भारत में दिखाई न देने के कारण इसका सूतक नहीं माना जाएगा, लेकिन ग्रहों, नक्षत्रों पर होने वाला प्रभाव पृथ्वी पर मौजूद जीवों और पर्यावरण पर असर डालेगा।

यहां दिखाई देगा सूर्य ग्रहण
यह सूर्य ग्रहण अमेरिका, पश्चिमी यूरोप, उत्तर पूर्वी एशिया और अफ्रीका में दिखाई देगा। माना जा रहा है कि इस ग्रहण के दौरान रात की तरह ही अंधेरा छा जाएगा। इससे पहले अमेरिका में 1918 में ऐसा सूर्य ग्रहण देखा गया था।

सूर्य ग्रहण का भारतीय समय-
यह सूर्य ग्रहण सोमवार को रात्रि 9 बजकर 16 मिनट पर शुरू होगा और 2:34 पर समाप्त होगा। पूर्ण ग्रहण का समय 11 बजकर 51 मिनट पर होगा।

जानें किस राशि में क्या होगा असर-

 

  • मेष: मेष राशि के लिए पंचम भाव में ग्रहण लगेगा। चूंकि पंचम भाव संतान और शिक्षा का स्थान होता है इसलिए ग्रहण के प्रभाव से संतान कष्ट में आएंगी। उनकी शिक्षा में बाधा आएगी। निर्णय लेने की क्षमता कमजोर होगी।
  • वृष: इस राशि के लिए ग्रहण चतुर्थ भाव में लगेगा। चतुर्थ स्थान सुख स्थान होता है इसलिए भौतिक सुख-सुविधाओं में कमी आएगी। माता-पिता को बीमारी, कोई कष्ट होगा। स्थायी संपत्ति की हानि हो सकती है। परिजनों से विवाद होगा।
  • मिथुनः मिथुन राशि के तीसरे भाव में सूर्य ग्रहण अपना असर दिखाएगा। भाई-बंधुओं, मित्रों से विवाद होगा। कोई करीबी व्यक्ति ही आपको धोखा दे सकता है, चाहे वह परिजन हो या मित्र। अनावश्यक विवादों से दूर रहने का प्रयास करें।
  • कर्क: सूर्य ग्रहण कर्क राशि वालों के दूसरे भाव को प्रभावित करेगा। द्वितीय भाव धन-संपत्ति का स्थान होता है। इसलिए खर्च की अधिकता बनेगी। अनाचक किसी कार्य पर बड़ा खर्च करना पड़ सकता है।
  • सिंह: इस राशि के लग्न पर ही ग्रहण है। यह स्थान स्वयं की शारीरिक स्थिति और पिता का स्थान है। लग्न पर शनि की दृष्टि होने से इस बात का ध्यान रखना होगा कि यदि आपने पूर्व में कोई गलत कार्य किया है तो अब उसका दंड भुगतने के लिए तैयार रहें। जिनकी कुंडली में शनि और राहु-केतु खराब स्थिति में है वे शारीरिक कष्ट पाएंगे। किसी मामले में फंस सकते हैं।
  • कन्या: इस राशि के द्वादश भाव या व्यय स्थान में ग्रहण का प्रभाव रहेगा। खर्च की अधिकता रहेगी। यात्रा अधिक करना होगी और यात्रा में कष्ट भी उठाना पड़ेगा। यात्रा के दौरान सामान चोरी हो सकता है। शरीर के दाहिने हिस्से में चोट लग सकती है। दाहिनी आंख प्रभावित हो सकती है।
  • तुला: आय स्थान एकादश भाव को प्रभावित करेगा सूर्य ग्रहण। नौकरीपेशा व्यक्तियों की नौकरी में बाधा आएगी। नौकरी छूट भी सकती है। स्थान परिवर्तन का योग बनेगा। व्यापारी वर्ग को एक माह तक कोई बड़ा निवेश करने से बचना होगा। अन्यथा उल्टे हानि उठाना पड़ सकती है।
  • वृश्चिक: इस राशि वालों के दशम भाव में ग्रहण लगेगा। जो लोग सरकारी नौकरी में हैं उसमें उन पर कोई आरोप लगेगा और उन्हें नौकरी छोड़ना पड़ सकती है। तबादला भी हो सकता है। यहां एक बात ध्यान रखने वाली यह होगी कि अचानक कोई बड़ा लाभ मिल सकता है, लेकिन ध्यान रखें उसका अंत शुभ नहीं होगा।
  • धनु: नवम भाव पर ग्रहण होगा इसलिए धर्म-कर्म के प्रति विरक्ति हो सकती है। अति उत्साह नुकसानदायक साबित होगा। इसलिए जो भी कार्य करें सोच-समझकर और बड़ों से सलाह लेने के बाद ही करें। उन्नति के योग बनेंगे, लेकिन आपको मेहनत भी उतनी ही अधिक करना होगी।
  • मकर: मकर राशि के लिए अष्टम भाव में ग्रहण लगेगा। अचानक दुर्घटना का भय रहेगा। शत्रु सक्रिय होंगे इसलिए सावधानी से कार्य करें, हालांकि शत्रु आपका कुछ बिगाड़ नहीं पाएंगे। जीवनसाथी को कोई रोग आ सकता है।
  • कुंभ: इस राशि के सप्तम भाव में ग्रहण लगेगा। इसलिए सबसे ज्यादा वैवाहिक जीवन प्रभावित होगा। जिन लोगों का सप्तमेश कमजोर है उनका विवाह टूट भी सकता है। दांपत्य जीवन में भारी कष्ट, तनाव, मनमुटाव की स्थिति बनेगी। नौकरी और व्यापार में हानि हो सकती है।
  • मीन: इस राशि के षष्ठम भाव में ग्रहण का असर होगा। यहां यहां कुछ मामलों में ग्रहण शुभ प्रभाव दिखाएगा जैसे जो कार्य लंबे समय से अटके हुए हैं। या संपत्ति, वाहन लेने की योजना बना रहे हैं तो संभव है ग्रहण के 30 दिन के भीतर ये कार्य संपन्न हो जाएं। मीन लग्न की गर्भवती महिलाएं भी सावधान रहें।