आरबीआई ने की रेपो रेट में 0.25 फीसद कटौती

0
36

नई दिल्ली । सस्ते कर्ज की उम्मीद लगाए बैठे लोगों के लिए खुशखबरी है। भारतीय रिजर्व बैंक ने बुधवार को रेपो रेट में चौथाई फीसद (0.25 फीसद) की कटौती कर दी है। अब रेपो रेट 6.25 फीसद से घटकर 6 फीसद पर आ गई है। वहीं रिवर्स रेपो में भी चौथाई फीसद की कटौती की गई है। रिवर्स रेपो 0.25 फीसद घटकर 5.75 फीसद हो गई है।

 एमपीसी के चार सदस्यों ने बैठक में रेपो रेट को 25 बेसिस प्वाइंट कम करने के पक्ष में वोट दिया था जबकि एक ने 50 बेसिस प्वाइंट की कटौती के पक्ष में वोट किया। वहीं एक सदस्य का कहना था कि रेपो रेट को अपरिवर्तित रखा जाए। 

भारतीय रिजर्व बैंक के रेपो रेट में चौथाई फीसद (की कटौती से सस्ते कर्ज की उम्मीद जगी है 

आरबीआई ने महंगाई दर के अनुमान को कम कर 4 फीसद कर दिया है। वहीं वित्त वर्ष 2018 के लिए जीवीए अनुमान 7.3 फीसद पर बरकरार रखा गया है। वहीं बैंक दर को 6.5 फीसद से घटाकर 6.25 फीसद कर दिया गया है।

आरबीआई की ओर से की गई ब्याज दरों में कटौती नवंबर 2010 के बाद का निचला स्तर है। नियंत्रण में आ चुकी महंगाई दर ने केंद्रीय बैंक को रेट कट की गुंजाइश दी थी ताकि इकोनॉमी को बूस्ट दिया जा सके।

अनुमान के मुताबिक रहा एमपीसी का फैसला
बुधवार को जारी किए गए एमपीसी के नतीजे अनुमान के मुताबिक ही रहे। नियंत्रण में आ चुकी महंगाई दर को देखते हुए उद्योग चैंबर के साथ साथ बैंक ऑफ अमेरिकी मेरिल लिंच ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि एमपीसी अगली बैठक में रेपो रेट चौथाई फीसद तक की कटौती कर सकता है।

भारतीय स्टेट बैंक की रिपोर्ट में भी इससे मिलती-जुलती बात कही थी। वहीं, उद्योग चैंबरों का भी मानना था कि रिजर्व बैंक के लिए ब्याज दरों में कटौती करने का यह सही मौका है। सीआइआइ का कहना था कि घटती महंगाई के चलते आरबीआइ को ब्याज दर में कटौती का सिलसिला फिर से शुरू करना चाहिए।