आईआईएफटी और कैट इस बार एक ही दिन होगा

0
33

लखनऊ। कॉमन ऐडमिशन टेस्ट (कैट) और इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ फॉरेन ट्रेड (आईआईएफटी) की प्रवेश परीक्षा इस बार एक ही दिन होने वाली है। जारी कार्यक्रम के मुताबिक इस बार कैट 26 नवंबर को होगा। जबकि इससे पहले ही आईआईएफटी भी 26 नवंबर को ही प्रवेश परीक्षा कराने की घोषणा कर चुका है।

ऐसे में देश भर के छात्रों को इस बार कैट और आईआईएफटी में एक का चुनाव करना होगा। ऐसा पहली बार हो रहा है जब मैनेजमेंट की दो राष्ट्रीय स्तर की परीक्षाएं एक ही दिन हो रही हैं। ऐसे में इन परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों में खलबली मच गई है कि वह किस परीक्षा की तैयारी करें।

कैट में देशभर से लगभग 2 लाख अभ्यर्थी शामिल होते हैं। इन्हीं 2 लाख में लगभग 60 हजार अभ्यर्थी ऐसे होते हैं जो आईआईएफटी की भी परीक्षा देते हैं। पिछले कई सालों से आईआईएफटी अपनी परीक्षा पहले कराता है। उसके एक सप्ताह बाद कैट होता है।

पिछली बार कैट दिसंबर में हुआ था। इसी को ध्यान में रखते हुए आईआईएफटी ने 26 नवंबर को परीक्षा की तिथि घोषित की थी। हालांकि कैट की आयोजन समिति ने इस तिथि को ध्यान में न रखते हुए उसी दिन अपनी भी परीक्षा रख दी।

आईआईएफटी को होगा नुकसान
दोनो परीक्षाएं साथ होने से सबसे ज्यादा नुकसान आईआईएफटी को हो सकता है। क्योंकि आईआईएफटी अपने दिल्ली और कोलकाता कैंपस में ऐडमिशन के लिए यह एंट्रेंस एग्जाम कराता है। जबकि कैट के अंतर्गत सभी आईआईएम के अलावा कई बड़े बिजनस स्कूलों में ऐडमिशन का मौका मिलता है।

कैट के जरिए 150 से भी अधिक मैनेजमेंट कॉलेजों में दाखिला मिलता है। आईआईएफटी के स्कोर पर भी कुछ कॉलेज ऐडमिशन देते लेकिन वह बहुत अच्छे नहीं माने जाते। ऐसे में कैट का एग्जाम देकर अभ्यर्थियों को आईआईएम समेत ज्यादा कॉलेजों में विकल्प मिल सकेंगे।

तारीख बदलने के लिए किया ई-मेल
मैनेजमेंट एक्सपर्ट अनुभव सिंह ने बताया कि मैनेजमेंट के छात्रों के लिए दोनों ही परीक्षा महत्वपूर्ण हैं। ऐसे में अभ्यर्थियों ने आईआईएफटी और कैट प्रशासन को ई-मेल किया है। इसमें अभ्यर्थियों ने परीक्षा की तिथि में फेरबदल की मांग की है।

उम्मीद है आईआईएफटी प्रशासन परीक्षा में फेरबदल कर सकता है। क्योंकि आईआईएफटी के परीक्षा केंद्र कम होते हैं। जबकि कैट के परीक्षा केंद्र अपेक्षाकृत सबसे ज्यादा होते हैं।