VoLTE से बदलेगी मोबाइल सेवाएं और आपकी जिंदगी

0
34

नई दिल्ली । पूरी दुनिया में वायरलेस ऑपरेटर्स पुराने 2G वॉयस नेटवर्क को छोड़ कर नए सुपर फास्ट 4G LTE नेटवर्क को अपनाने की तैयारी में हैं। वायरलेस ऑपरेटर्स को इससे होने वाला फायदा एकदम साफ है।

इससे उनके नेटवर्क रिसोर्सेज का ज्यादा सही इस्तेमाल किया जा सकता है, जिसके परिणामस्वरूप ऑपरेशनल लागत में कमी आएगी। लेकिन यूजर्स या ग्राहकों को इससे क्या फायदा होगा, यह अभी भी उतना साफ नहीं है। लेकिन आगे आने वाले समय में कस्टमर्स बेहतर वॉयस क्वालिटी और सेवाओं के साथ इसमें अपना फायदा देखने लगेंगे।

VoLTE क्या है?
VoLTE एक फीचर है जो कॉलिंग को और बेहतर बनाता है। 2G और 3G को जहां वॉयस कॉलिंग के आधार पर लाया गया था वहीं, 4G डाटा पर आधारित नेटवर्किंग टेक्नोलॉजी है। यह कॉल को डाटा फॉर्मेट में उपलब्ध कराता है।

आज के परिप्रेक्ष्य में जियो के बाद 4G सर्विस सस्ती डाटा दरों पर कॉलिंग की सुविधा देती है। खबरों के मुताबिक, टेलिकॉम कंपनियां सस्ती दरों पर VoLTE सर्विस को शुरू करेगी।

तीन कंपनियों ने शुरू किया ट्रायल:
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, एयरटेल ने अपनी VoLTE सर्विस का ट्रायल शुरू कर दिया है। वहीं, वोडाफोन ने भी VoLTE का कॉमर्शियल ट्रायल शुरू किया है। इसके अलावा आइडिया भी VoLTE सर्विस को जल्द ही शुरु कर सकती है। फिलहाल इसकी टेस्टिंग चल रही है। रिपोर्ट्स के अनुसार, 2017 के अंत तक यह कंपनी भी VoLTE सर्विस को लॉन्च कर देगी।

VoLTE सेवा का आप कैसे उठा सकते हैं फायदा:
VoLTE के सभी फायदे उठाने के लिए दो चीजों का होना अनिवार्य है। पहला, उपभोक्ताओं को VoLTE सपोर्ट करने वाले स्मार्टफोन की जरुरत होगी। इसी के साथ उपभोक्ता जिस नेटवर्क का इस्तेमाल कर रहे हों, उस पर भी यह सेवा मौजूद हो। इस सेवा का पूरा फायदा तभी उठाया जा सकेगा जब इस नेटवर्क सभी जगह आसानी से उपलब्ध हो।

उपभोक्ताओं को VoLTE से मिलने वाले फायदे:

1. बेहतर कॉल क्वालिटी:
सबसे बड़ा फायदा जो यूजर्स VoLTE के आने के बाद होगा, वो है बेहतर वॉयस कॉल क्वालिटी। VoLTE और CDMA के कॉलिंग अनुभव में जमीन-आसमान का अंतर है। CDMA में जहां कॉलिंग के दौरान आवाज कट-कट के आना जैसी परेशानियां आती हैं वहीं, VoLTE में एचडी क्वालिटी की वॉयस कॉलिंग का अनुभव प्राप्त होगा।

इसी के साथ VoLTE वॉयस कॉलिंग 2G के मुकाबले 6 गुना तेज और 3G के मुकाबले 3 गुना तेज होती है। इन आंकड़ों से आप खुद की अंदाजा लगा सकते हैं की सही नेटवर्क मिलने पर आपको आने वाले समय में बेहतर वॉयस कॉलिंग अनुभव मिलने वाला है।

2. कॉल कनेक्शन:
VoLTE के साथ कॉल कनेक्ट करना आज के मुकाबले कई गुना तेजी से होगा। यह कितना फास्ट होगा इस पर बात की जाए तो रिपोर्ट्स की मानें तो यह 2G के मुकाबले दोगुनी स्पीड से कॉल कनेक्ट करेगा। बढ़िया नेटवर्क कवरेज मिलने पर कॉल ड्राप या कनेक्शन इशू जैसे समस्याओं का हमेशा के लिए निवारण हो सकता है।

3. बेहतर बैटरी लाइफ:
सिग्नल्स ग्रुप रिसर्च की एक रिपोर्ट के अनुसार VoLTE सेवाएं अन्य वॉयस कॉलिंग के मुकाबले कई बेहतर बैटरी लाइफ प्रदान करती है। हाई कॉल क्वालिटी के साथ VoLTE स्काइप या कॉल के मुकाबले कम बैटरी का इस्तेमाल करता है, जिससे स्मार्टफोन की बैटरी ज्यादा चलती है।

इसी के साथ फिलहाल 4G नेटवर्क मौजूद न होने के कारण कॉल नेटवर्क न मिलने पर 3G या 2G सिग्नल पकड़ने लगती है। नेटवर्क की इस खोज में भी बैटरी की अधिक खपत होती है। VoLTE हर क्षेत्र में उपलब्ध होने के बाद इस तरह की परेशानी भी नहीं आएगी और इससे भी आपके फोन की बैटरी ज्यादा चलेगी।

4. वीडियो कॉलिंग:
जिस तरह आप वीडियो कॉलिंग के लिए गूगल डुओ, स्काइप आदि का प्रयोग करते हैं, उसी तरह VoLTE सपोर्ट आने के बाद आपका काम और आसान हो जाएगा। जिस तरह आप मोबाइल नंबर से वॉयस कॉल करते हैं, ठीक उसी तरह आप VoLTE की मदद से वीडियो कॉलिंग भी कर पाएंगे। इससे ना एप्स डाउनलोड करने का झंझट होगा और ना ही अकाउंट बनाने की परेशानी। वीडियो कॉलिंग करना उतना ही आसान होगा, जितनी आसानी से आज आप वॉयस कॉल करते हैं।
VoLTE सेवा की सीमाएं:

1. कॉल ड्राप:
VoLTE में आपको कॉल ड्राप की समस्या से जूझना पड़ सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि अभी इसके सपोर्ट में नेटवर्क कवरेज मौजूद नहीं है। टेलिकॉम कंपनियों ने अभी VoLTE सेवा शुरू करने की ओर अपना कदम बढ़ाया ही है। बाद में भले ही इस परेशानी का सामना ना करना पड़े। लेकिन अभी के लिए जब इसके लिए बेहतर नेटवर्क कवरेज मौजूद नहीं है, तब तक कॉल ड्राप की समस्या आती रहेगी।

2. कुछ डिवाइसेज तक सीमित:
VoLTE सेवा की एक सीमा यह भी है की यह सीमित डिवाइसेज पर ही काम करता है। ऐसे में आज के समय में भी जब भारत में अधिकांश लोग 2G फीचर फोन का इस्तेमाल करते हैं, VoLTE को पूरे तरीके से अपनाना और इस्तेमाल में लाना किसी चुनौती से कम नहीं है।

साथ ही इसे पूर्ण रूप से इस्तेमाल में लाने के लिए किसी एक यूजर नहीं, बल्कि कॉलर और रिसीवर दोनों के पास VoLTE सपोर्ट करने वाला फोन और नेटवर्क होना चाहिए। लेकिन इतना जरूर कहा जा सकता है की आने वाले समय में पूरी तरह से देश में इसके नेटवर्क का जाल फैलने के बाद यह कस्टमर्स को अच्छा अनुभव प्रदान करेगा।