कॅरिअर पॉइंट यूनिवर्सिटी ने कोटा में लांच किए पेरा मेडिकल साइंस के नए कोर्स

0
26

कॅरिअर ऑप्शनः 12वीं साइंस के स्टूडेंट्स को सीपीयू कोटा में मिलेंगे रिसर्च, रोजगार व औंत्रप्रिन्योरशिप के अवसर। यूनिवर्सिटी ने किए इंटरनेशनल एमओयू व हॉस्पिटल से टाईअप।

कोटा। कॅरिअर पॉइंट यूनिवर्सिटी ने देश में हेल्थ साइंस व पेरा मेडिकल क्षेत्र में तेजी से बढ़़ती जॉब की संभावनाओं को देखते हुए नए सत्र से साइंस के विद्यार्थियों के लिए कोटा में पहली बार नए कोर्सेस लांच किए। कुलपति डॉ. डीएन राव ने बुधवार को पत्रकारों को बताया कि राज्य की वर्ल्डक्लास प्राइवेट यूनिवर्सिटी होने के से यहां रिसर्च के क्षेत्र में कई नये प्रोजेक्ट चल रहे हैं।

हाड़ौती में हेल्थ केअर व अलाइड साइंस के तहत औषधीय वनस्पति पर शोंध कर नई दवाइयां विकसित करने पर जोर दिया जा रहा है। हमारा लक्ष्य है कि प्रतिवर्ष 5 से 10 पेटेन्ट विभिन्न क्षेत्रां मे फाइल करें। यूनिवर्सिटी में हेल्थ केअर व अलाइड साइंस विभाग के डीन डॉ. आरएस घोष ने कहा कि आज हायर एजुकेशन में स्टूडेंटस को प्रयोगात्मक लर्निंग (म्गचमतपमदजपंस समंतदपदह) एवं ग्लोबल एक्सपोजर की जरूरत है।

यूनिवर्सिटी की अनुभवी फैकल्टी टीम ने शोध एवं मार्केट सर्वे कर लेटेस्ट कोर्सेस लांच किए ताकि कोटा में विशेषज्ञ व एक्सपर्ट मेनपॉवर तैयार हो। उन्होंने बताया कि यूनिवर्सिटी में चालू सत्र से पैरा मेडिकल साइंस में फिजियोथेरेपी, फार्मा, मेडिकल लेबोरेट्री कोर्स, मेडिकल हेल्थ टेक्नोलॉजी, ऑप्टोमेट्री कोर्स, हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन सहित कई कोर्सेस संचालित होंगे। यूनिवर्सिटी ने स्टूडेंट्स को प्रेक्टिस कराने के लिए कुछ प्रमुख हॉस्पिटल से टाइअप किए हैं।

अकादमिक विभाग के निदेशक डॉ गुरूदŸा कक्कड़ ने कहा कि हेल्थ साइंस में स्पेशलाइजेशन होने से आम नागरिकों को बेहतर चिकित्सा सुविधाएं मिलने लगेंगी। कोटा में बाहर से आने वाले साइंस के हजारों छात्र मेडिकल प्रवेश परीक्षाओं में प्रतिवर्ष सलेक्शन से वंचित रह जाते है। संस्थानों में सीटें सीमित होने से मात्र 2 से 3 प्रतिशत छात्रों को सीट मिल पाती है।

लेकिन शेष छात्रों का भी ब्रेन लेवल अच्छा होता है। एक एक्जाम से उनका भविष्य खत्म नहीं हो जाता। उन्हें समय पर बेहतर कॅरिअर ऑप्शन मिल जाए तो वे उंचाइयों को छू सकते हैं। रजिस्ट्रार डॉ.पीके देव ने कहा कि वर्ल्डक्लास सीपी यूनिवर्सिटी ने कई इंटरनेशनल एमओयू किए हैं। इनमें अमेरिकन यूनिवर्सिटी सहित राज्य में पहली बार एसोसिएशन ऑफ कॉमनवैल्थ यूनिवर्सिटी, लंदन की मेंबरशिप मिलने से सीपी यूनिवर्सिटी के ग्रेजुएट्स को प्रमुख कंपनियों में जॉब मिल रहे हैं।

हेल्थ केअर के नए फील्ड में डिमांड बढ़ी

विभाग के डीन डॉ. आरएस घोष ने कहा कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने ‘सबके लिए स्वास्थ्य‘ को नेशनल मिशन बनाया है। इसमें अलाइड हेल्थ सांइस की भूमिका महत्वपूर्ण है। एक रिपोर्ट के अनुसार, देश में 500 रोगी पर एक नर्स, 2000 पर एक फार्मासिस्ट, 30 हजार पर एक लैब टेक्निशियन, 20 हजार पर एक हेल्थ इंस्पेक्टर की अनुशंसा की गई।

कोटा के छात्रों को यह फायदा
कोटा में 12वीं सांइस बायोलॉजी व मैथ्स के सर्वाधिक विद्यार्थी होने से उन्हें अच्छे कॅरिअर विकल्प मिलेंगे। नए कोर्स करने के लिए अब बाहर नहीं जाना पड़ेगा। यूनिवर्सिटी में मॉडर्न लैबोरेट्री व रिसर्च के संसाधन मिलने से स्टूडेंट्स को फायदा मिलेगा। नई दवाओं पर रिसर्च एंड डेवलपमेंट कर पेटेंट फाइल करने की सुविधा भी दी जाएगी।

हैल्थ केअर में औंत्रप्रिन्योरशिप को बढ़ावा दिया जाएगा। ऐसे कोर्सेस के बाद स्टूडेंट को फिजियोथेरेपिस्ट, फार्मासिस्ट, केमिस्ट, लैब टेक्निशियन, मेडिकल टेक्निशियन, फिटनेस ट्रेनर, थेरेपिस्ट, पेशेंट केअर, मेडिकल ट्रांस्क्रिपशिस्ट, सर्जिकल टेक्नोलिस्ट,मेडिकल इमेजिग टेक्नोलॉजी , डायलिसिस आदि में नए अवसर मिलेंगे।