एम्स : सूरत की निशिता ऑल इंडिया टॉपर, पहली बार बेटी के सिर ताज

0
57
  • एम्स-2017 रिजल्ट : कोटा कोचिंग से टॉप-10 में से 10 रैंक का कीर्तिमान
  • 7 एम्स में 707 एमबीबीएस सीटों के लिए 3 जुलाई से प्रारंभ होगी काउंसलिंग
  • लगभग 2 लाख में से 17,440 परीक्षार्थी हुए क्वालिफाई, 2209 ही काउंसिलिंग में भाग लेंगे 

-अरविंद, कोटा। देश के 7 एम्स संस्थानों की ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा में सूरत की निशिता पुरोहित ने 100 परसेंटाइल मार्क्स के साथ ऑल इंडिया टॉपर होने का ताज जीता। गुरुवार को घोषित रिजल्ट की ऑल इंडिया मेरिट सूची में टॉप-10 की सभी 10 रैंक पर एलन कॅरिअर इंस्टीट्यूट ने सफलता का दावा किया।

इनमें निशिता रैंक-1, अर्चित गुप्ता (इंदौर) रैंक-2, हर्ष अग्रवाल, रैंक-5, रिशव राज रैंक-6, हर्षित आनंद रैंक-7, अभिषेक डोंगरा रैंक-9 तथा मनीष मूलचंदानी (इंदौर) रैंक-10 पर सफल रहे। टॉप-100 से टॉप-500 रैंक पर आकाश कोचिंग इंस्टीट्यूट, कॅरिअर पॉइंट, रेजोनेंस एवं सर्वोत्तम  इंस्टीट्यूट से कई स्टूडेंट्स चयनित हुए। 

लगभग 2 लाख परीक्षार्थियों में से 17,140 विद्यार्थी क्वालिफाई हुए। प्रत्येक एम्स में 50-50 सीटें सामान्य, 27 ओबीसी, 15 एससी, 8 एसटी एवं 3 सीटें दिव्यांग वर्ग के लिए निर्धारित हैं।

 दो पारी के अंकों से मिला परसेंटाइल

स्कोर इस वर्ष सामान्य वर्ग में दो स्टूडेंट्स ने 100 परसेंटाइल, 32 छात्रों ने 99.99, 27 छात्रों ने 99.98 तथा 28 छात्रों ने 99.96 अर्जित कर शीर्ष रैंक पर कब्जा किया। टॉप-100 में ओबीसी वर्ग के छात्र रैंक-6,19, 23, 29 व 35 पर रहे। जबकि एससी वर्ग में एक छात्र को रैंक-42 मिली। एसटी वर्ग के छात्र एम्स में रैंक-1273 के बाद क्वलिफाई हुए। 28 मई को 200 अंकों का ऑनलाइन पेपर दो पारियों में हुआ था। दोनों पारियों के अंकों को नॉर्मलाइज कर परसेंटाइल से ऑल इंडिया रैंकिंग दी गई। 

ऊंची रही कटऑफ 

वर्ग               कटऑफ (परसेंटाइल में)

सामान्य              99.0014

ओबीसी             97.4205

एससी, एसटी    94.1220  

3 जुलाई से प्रारंभ होगी

काउंसलिंग एलन के कॅरिअर काउंसलर पारिजात मिश्रा ने बताया कि क्वालिफाई विद्यार्थियों के लिए इस वर्ष काउंसलिंग के 3 राउंड होंगे। पहला राउंड 3 से 6 जुलाई, दूसरा 3 अगस्त तथा तीसरा 4 सितंबर को होगा। शेष रिक्त सीटों के लिए 27 सितंबर को ओपन राउंड में काउंसिलिंग होगी। एम्स, 2016 में 1,89,357 परीक्षार्थियों में से 7137 क्वालिफाई हुए थे लेकिन काउंसलिंग में 2000 को ही मौका मिला था। जवाहरलाल नेहरू ऑडिटोरियम, एम्स, नईदिल्ली में काउंसिलिंग होगी।  

टॉपर इंटरव्यू  :

बॉस्केटबॉल खेलते हुए भरी ऊंची उड़ान

निशिता पुरोहित, एआईआर-1

पापा-निर्मलेंदु पुरोहित, प्रेसीडेंट, वीजी स्टील, भुवनेश्चर

मां-  हिमांशु, गृहिणी, सूरत

निशिता देश की पहली छात्रा है, जो एम्स में ऑल इंडिया टॉपर बनी। भरूच के स्कूल में क्लास-8-9 तक  बॉस्केटबॉल में वह नेशनल लेवल तक पहुंची। स्पोर्ट्स में डिस्कस थ्रो, शॉट पुट, बेडमिंटन से उसे ताजगी मिलती रही। स्कूल में वह एनसीसी कैडेट भी रही। 12वीं बोर्ड में 91.4 प्रतिशत मार्क्स मिले। एम्स के लिए 2 साल एलेन, कोटा से क्लासरूम कोंचंग ली। यहां आर्ट ऑफ लिविंग ज्वाइन कर नियमित योगा-प्राणायाम सीखा। जिससे एनर्जी लेवल बढ़ गया। इंटरनेशनल फिजिक्स ओलिम्पियाड में राउंड-2 तक क्वालिफाई किया। रोज 7 घंटे नींद पूरी करने वाली निशिता ने बताया कि वह देर रात तक नहीं पढ़ी। दिन में 5-6 घंटे सेल्फ स्टडी पर्याप्त रही। एम्स से कॉर्डिएक सर्जन बनने के बाद भविष्य में आईएएस बनने का सपना है।
सक्सेस फॉर्मूला- कॉम्पिटिशन एग्जाम की तैयारी करते हुए गर्ल्स बहुत इमोशनल होती हैं, वे खुद की शक्ति पर भरोसा करें। किसी एक टेस्ट से विचलित न हों, धैर्य के साथ निरंतर पढें़। कूल माइंड से सेल्फ स्टडी करें तो आप दूसरों से आगे निकल सकते है।