विदेश से एमबीबीएस करने के लिए भी नीट जरूरी

0
101

नई दिल्ली। विदेश से एमबीबीएस करने के इच्छुक भारतीय छात्रों को भी जल्द ही मेडिकल के नीट से गुजरना पड़ेगा। इस टेस्ट में निर्धारित न्यूनतम नंबर हासिल करने पर ही किसी को विदेशी संस्थान से मेडिकल की पढ़ाई करने की परमिशन दी जाएगी। इस कवायद का मकसद पैसे और संपर्कों के दम पर विदेशी संस्थानों से मेडिकल की डिग्री हासिल करने वालों पर लगाम लगाना है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय फिलहाल इस योजना को अमली जामा पहनाने के लिए जरूरी कार्रवाई कर रहा है। इस योजना पर अगले साल से अमल होने के आसार हैं।  विदेशी मेडिकल संस्थानों में योग्यता का ध्यान नहीं रखा जाता और महज पैसे के दम पर वहां दाखिला मिल जाता है। ऐसे में अयोग्य छात्र भी मेडिकल की डिग्री हासिल कर लेते हैं।

वापस भारत आने पर इन स्टूडेंट्स को प्रैक्टिस करने के लिए मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई) का स्क्रीनिंग टेस्ट पास करना होता है और इसमें ज्यादातर छात्र नाकाम हो जाते हैं। पिछले पांच साल के दौरान एमसीआई का स्क्रीनिंग टेस्ट पास करने वाले छात्रों का प्रतिशत 13 से 27 प्रतिशत के करीब रहा है।

ज्यादातर भारतीय स्टूडेंट्स अभी देश में किसी मेडिकल कॉलेज में दाखिला न मिल पाने पर चीन, रूस, बांग्लादेश, नेपाल और यूक्रेन आदि से एमबीबीएस  कर लेते हैं। सरकार का इरादा है कि जो स्टूडेंट NEET में निर्धारित अंक हासिल करेगा उसे ही विदेश से मेडिकल की पढ़ाई के लिए अनापत्ति प्रमाण-पत्र दिया जाएगा।