रतनगढ़ कस्बे में फैक्ट्री से 50 लाख का नकली देसी घी जब्त

0
15

रतनगढ़ (चूरू)। चूरू जिले के रतनगढ़ कस्बे में रीको औद्योगिक क्षेत्र की रोड छह पर संचालित फैक्ट्री पर पुलिस ने रविवार रात छापा मारकर विभिन्न ब्रांड का 13 टन नकली देसी घी जब्त किया है। जब्त किए गए नकली घी का बाजार मूल्य 50 लाख रुपए से अधिक बताया गया है।

पुलिस ने फैक्ट्री से घी बनाने की मशीने, एसेंस, खाली डिब्बे, रैपर, एक ट्रक व एक टैंकर भी जब्त किया। पुलिस को देखकर आरोपी फरार हो गए। पुलिस ने उनका पीछा भी किया, लेकिन वह गिरफ्त में नहीं आए। रविवार की शाम शुरू हुई कार्रवाई देर रात तक चली।

पुलिस ने फैक्ट्री को सील कर दिया। रात एक बजे सीआई राणीदान की रिपोर्ट पर भवानी, रामलाल ब्राह्मण, ओमप्रकाश पाणेचा निवासी नोखा, बीकानेर सहित छह लोगों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ है।

मुखबिर की सूचना पर एसएचओ राणीदान उज्जवल के नेतृत्व में आठ सदस्यीय टीम निजी साधनों से रिको औद्योगिक क्षेत्र पहुंची और रोड छह पर स्थित प्लाट संख्या एच-169 पर संचालित फैक्ट्री में छापा मारा। पुलिस को देखकर नकली घी बनाने के कारोबार में शामिल छह जने दीवार फांदकर फरार हो गए।

ऐसे बनता था नकली घी
पुलिस ने बड़ी मात्रा में नकली घी, विभिन्न उपकरण, कच्चा माल जब्त किया। इसके अलावा िको औद्योगिक संघ द्वारा एच-169 के प्रो. ओमप्रकाश विश्नोई के नाम से सदस्यता जारी करने का प्रमाण पत्र भी मिला। पुलिस ने कहा कि यह प्लाट किसके नाम आबंटित है, इस संबंध में रीको से जानकारी मांगी गई है।

पुलिस द्वारा नकली घी बनाने की फैक्ट्री में की गई कार्रवाई के दौरान विभिन्न फर्मों के 23 बिल भी मिले हैं, जिनमें उक्त घी का मूल्य देसी घी के बराबर अंकित है।

आरोपियों के खिलाफ पूर्व में भी हो चुकी है कार्रवाई : आरोपियों के खिलाफ पूर्व में भी नोखा में करीब दो-ढाई साल पहले पुलिस कार्रवाई कर चुकी है। वहां से ये लोग सारा कारोबार समेटकर पिछले तीन-चार महीनों से उक्त स्थान पर कारोबार करने में जुटे हुए हैं।

रीको में एक फैक्ट्री में पाम ऑयल से नकली घी तैयार होता था। दो बड़ी टंकियों में पाम ऑयल में शुद्ध घी का असेंस मिलाया जाता था तथा कैमिकल डालकर साफ करते थे। टंकियों पर फिल्टर लगा हुआ था, जिससे पाइप के जरिए यह घी पैकिंग मशीनों तक पहुंचता था। टीन व रैपर पैकिंग के लिए अलग-अलग मशीनों का प्रयोग होता था। बाद में पैकिंग तारीख, विभिन्न ब्रांडों के रैपर व मुहर लगाते थे।