सरकारी खरीद केंद्र से गेहूं नहीं उठने से भामाशाह मंडी जाम

0
12

कोटा। तीन दिन से गेहूं से पूरी भामाशाह मंडी अटी पड़ी हुई है। इसमें सबसे बड़ी लापरवाही एफसीआई की ओर से हुई है। एफसीआई की ओर से प्रतिदिन 200 टोकन जारी करने का था, लेकिन सॉफ्टवेयर में हुई खराबी के चलते कई दिन तक 500-500 टोकन जारी कर दिए।

किसान भी अपना माल लेकर मंडी में आ गए। जहां 40 से 50 हजार क्विंटल माल आना था, वहां 1 लाख 25 हजार क्विंटल माल आ गया। इससे पूरी मंडी जाम हो गई। इससे निपटने के लिए किसी के पास कोई प्लान नहीं था।

वेयर हाउस पर विवाद होने से वहां भी 40 से ज्यादा ट्रक खाली नहीं हो पाए और व्यवस्था बिगड़ती चली गई। इसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ रहा है। किसान तीन दिन से मंडी के अंदर और बाहर गेहूं लेकर बैठा है। बुधवार को केवल 25 हजार कट्टों की तुलाई हो सकी। इसके अलावा पुलिस की मदद से 270 ट्रकों का लदान हो सका।

वहीं बुधवार को मौसम खराब होने से किसानों की जान सांसत में आ गई। राहत की बात यह रही कि मंडी के केवल छीटे ही आए। अव्यवस्था होने पर प्रशासनिक अधिकारियों ने सुध ली । गुरुवार को एफसीआई की खरीद बंद की है और ऑनलाइन जारी टोकनों को अब ऑफ लाइन टोकन जारी करके उन्हें नई डेट देंगे। उसके अनुसार ही खरीद की जाएगी। इसमें एक दिन में 200 टोकन ही जारी होंगे। इसको देखते हुए एडीएम सिटी ने एफसीआई, मंडी सचिव के साथ मीटिंग की।

मंडी दिनभर रही जाम
भामाशाहमंडी में बुधवार को भी जाम की स्थिति रही। किसान आसपास के गांवों से तीन दिन से गेहूं लेकर यहां आए हुए हैं। उनका नंबर ही नहीं आ पा रहा है। एफसीआई और मंडी प्रशासन ने सुबह पुलिस की मदद लेकर गेट नंबर दो से गेहूं के लदान के लिए 270 ट्रकों को अंदर लिया और गेहूं भरवाया। तब कहीं जाकर 25 हजार कट्टों की खरीद की जा सकी।

ठेकेदार फर्म का कहना है कि अभी भी 1 लाख 70 हजार से ज्यादा कट्टे मंडी में पड़े हुए हैं। इसके अलावा करीब 500 ट्रैक्टर-ट्रॉलियों में 1 लाख कट्टे जिंस पड़ा हुआ है। अब गुरुवार को खरीद बंद की है और जितना माल अंदर आ गया है। उसकी तुलाई की जाएगी। शुक्रवार को फिर तुलाई होगी।

आज खरीद बंद
भारतीय खाद्य निगम क्षेत्रीय प्रबंधक पवन कुमार बोथरा ने बताया कि एफसीआई पोर्टल पर ऑनलाइन टोकन जारी होने की प्रक्रिया में तकनीकी त्रुटि आ जाने के कारण निर्धारित संख्या से अधिक टोकन जारी हो गए हैं। इससे सभी कृषकों की उपज को निर्धारित समय पर खरीद पाना संभव नहीं हो पा रहा है।

ऑनलाइन रजिस्टर्ड करवा चुके किसानों के उपज की खरीद प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करने हेतु 12 अप्रैल को कोटा स्थित भामाशाह मंडी में समर्थन मूल्य खरीद प्रक्रिया बंद रहेगी। 14 अप्रैल से ऑनलाइन रजिस्टर्ड किसान अपना ऑफ लाइन टोकन नंबर व गेहूं खरीद की नई तिथि किसान भवन, भामाशाह मंडी से प्राप्त कर सकेंगे। उन्होंने बताया कि जिले की शेष मंडिया नियमित खुली रहेगी तथा ऑनलाइन टोकन प्रक्रिया से ही खरीद की जाएगी। 15 जून तक खरीद केन्द्र जारी रहेंगे।