आईआईटी में लड़कियों के लिए 779 सीट रिजर्व

0
14

कोटा। इस साल आईआईटी में बेटियों के लिए 779 सीटें रिजर्व की गई हैं। ज्वाइंट एडमिशन बोर्ड की सब कमेटी ने आईआईटी काउंसिल से इसकी सिफारिश थी। हालांकि इससे आईआईटी की कुल सीटों पर काेई असर नहीं पड़ेगा। यह सीटें सुपरन्यूमरी कहलाएंगी।

यानी गर्ल्स ने एडमिशन नहीं लिया तो यह सीटें खाली ही रहेंगी। बची सीटों पर लड़कों को एडमिशन नहीं दिया जाएगा। आईआईटी की बाकी 10987 सीटों पर रिजर्वेशन की स्थिति पहले जैसी ही रहेगी। सिफारिश के अनुसार सबसे अधिक 113 सीटें आईआईटी खड़गपुर में बढ़ाई जाएंगी।

इसके बाद आईआईटी धनबाद में 95 सीटें लड़कियों के लिए सुपरन्यूमरी रहेगी। मोस्ट डिमांडिंग आईआईटी मुंबई में 58 व दिल्ली में 59 सीट्स लड़कियों के लिए रहेंगी। आईआईटी मंडी व तिरुपति में सुपरन्यूमरी सीटें नहीं होंगी। हालांकि अभी तक जेईई एडवांस की वेबसाइट पर सीट मैट्रिक्स में आईआईटी की नई सीटों का उल्लेख नहीं किया गया है। इंफॉरमेशन ब्रोशर में भी लड़कियों के लिए सीटें बढ़ाने का उल्लेख है, लेकिन कितनी सीटें बढ़ेंगी, वहां भी यह स्पष्ट नहीं किया गया है।

150 से 200 अंकों पर अलॉट हो सकते हैं ये कॉलेज : 150 से 200 अंकों के बीच स्कोर करने वालों को एनआईटी जालंधर, कुरुक्षेत्र, दिल्ली, गोवा, सूरत, हमीरपुर, नागपुर और भोपाल में अच्छी ब्रांच मिल सकती है। इसके साथ ही ट्रिपलआईटी कोटा और ग्वालियर आदि का ऑप्शन भी रहेगा।

100 से 150 पर इन संस्थानों की उम्मीद : नई ट्रिपलआईटी के साथ एनआईटी पटना, सिलचर, श्रीनगर, जमशेदपुर, उत्तराखंड, पांडिचेरी में एडमिशन मिल सकता है। इसी प्रकार 50 से 100 नंबर अंक हासिल करने वाले जेईई मेन्स की रैंक के आधार पर हरियाणा, पंजाब, एमपी, यूपी, वेस्ट बंगाल, ओडिसा व महाराष्ट्र के स्टेट कॉलेज अलॉट हो सकते हैं।