रेडिएशन के दुष्प्रभाव से नपुंसकता व कैंसर संभव

0
12

कोटा। सोसायटी आॅफ राजस्थान रेडियोग्राफर्स एंड रेडिएशन टेक्नोलॉजिस्ट राजस्थान की ओर से विकिरण सुरक्षा तथा एमआरआई सेफ्टी पर एक दिवसीय सम्मेलन रविवार को आईएमए हाॅल में आयोजित किया गया।

एक्सरे के जनक डब्ल्यूसी रोंजन के जन्मदिन पर आयोजित होने वाले इस सेमिनार में देशभर के रेडियोग्राफर तथा टेक्नीशियन जुटे। सेमिनार में विशेषज्ञों ने कहा कि रेडिएशन के दुष्प्रभाव से नपुंसकता हो सकती है, कैंसर हो सकता है साथ ही बाल झड़ने शुरू हो सकते हैं। त्वचा रोग हो जाते हैं।

सेमिनार में नाइजीरिया से भी 13 लोगों को प्रतिनिधि मंडल कोटा पहुंचा। वहीं, 25 सेवानिवृत रेडियोग्राफर्स को ‘रेडियोग्राफर रत्न’ से सम्मानित किया गया तथा 5 स्टूडेंट्स को विद्यार्थी रत्न से व 7 संस्थाओं को चिकित्सा के क्षेत्र में सहयोगी की भूमिका निभाने के लिए सम्मान किया। भ्रूण हत्या विरोधी पोस्टर का विमोचन भी किया गया।

सेमिनार में नेशनल प्रेसीडेंट सेलवा कुमार ने कहा कि रेडियोग्राफर को लोगों की चिकित्सा करने के लिए अपने जीवन को दांव पर लगाना पड़ता है। डेनियल ने कहा कि रेडियोग्राफी में नई तकनीक और सॉफ्टवेयर आ रहे हैं। रेडियोग्राफर्स और टेक्नीशियन को भी इन नई तकनीक में पारंगत होने की आवश्यकता है।

सेमिनार में प्रदेशाध्यक्ष तथा आयोजन समिति के अध्यक्ष वकी अहमद, महासचिव अनिल कुमावत, उजागर सिंह, मुकेश सामरिया, सुरेश मीणा, लालचंद मौजूद रहे।  कार्यक्रम में समाजसेवा से जुड़े यूथ एक्शन फोर सोसायटी के चंदू पांचाल, विमल आजाद, कोमल वर्मा, शाहिस्ता, विकास शर्मा, रामेश्वर सिंह को रक्तदान के क्षेत्र में बेहतर काम करने पर सम्मानित किया गया।

इंदौर के रेडियोग्राफर शिवकांत वाजपेयी ने कहा कि रेडिएशन से नपुंसकता, कैंसर व बाल झड़ने जैसी बीमारी हो सकती है। कई बार डेंटल स्पेशलिस्ट रूट कैनाल करते समय बार-बार एक्सरे करवाते हैं। ऐसा किया जाना घातक है। मुख्य सड़क से दूर ही एक्स रे केन्द्र बनाए जाने चाहिए। मुंबई के टाटा मेमोरियल कैंसर हॉस्पिटल में टेक्निकल ऑफिसर एचसी योगानंद ने कहा कि सिटी स्कैन से पहले मरीज को दी जाने वाली दवा से यदि उसे एलर्जी होती है तो उसे टेक्नीशियन व डॉक्टर को अवश्य बताना चाहिए।