राजनीति की शिकार मंडी समिति की सचिव का कोटा से ट्रांसफर

0
33

कोटा।   राजनीति की शिकार मंडी समिति की सचिव हेमलता मीणा का आखिर कोटा से ट्रांसफर हो ही गया। पिछले एक कुछ वर्षों से थोक फल सब्जी मंडी समिति की सचिव और चेयरमैन ओम मालव के बीच मतभेद चल रहे थे। जिसके चलते उनका ट्रांसफर लाडपुरा विधायक भवानी सिंह राजावत की शिकायत पर कर दिया गया।  

ज्ञातव्य है कि जब से मालव चैयरमेन बने हैं तब से मंडी अव्यवस्थाओं की शिकार हो गई है। सचिव व्यवस्था सुधारना चाहती थी। परन्तु चेयरमैन इसमें सहयोग नहीं कर रहे थे। बल्कि वह स्टाफ को भी सचिव के खिलाफ उकसा कर आये दिन माहौल बिगाड़ते रहते थे। विधायक राजावत खुद भूमाफियाओं को फायदा पहुंचाने के लिए मंडी चंद्रेसल शिफ्ट करना चाहते हैं।

शुक्रवार को राज्य सरकार ने कोटा थोक फल सब्जीमंडी की सचिव हेमलता मीणा व कैथून विद्युत निगम के एईएन जेपी पचौरी को हटा दिया। मंडी सचिव मीणा का ट्रांसफर तथा पचौरी को एपीओ किया गया है। राजावत ने कहा कि मंडी सचिव चंद्रेसल में मंडी शिफ्ट करने के काम में बेवजह रुकावट पैदा कर रही थीं। इसलिए कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी से बात कर उन्हें हटाया गया है।

उधर, कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी ने कहा कि ऐसा किसी की शिकायत पर नहीं किया है। उधर, खेड़ारसूलपुर गांव में रात्रि चौपाल में किसानों ने कैथून के सहायक अभियंता जेपी पचौरी की शिकायत की थी। इस पर राजावत ने निगम के सीएमडी आरजी गुप्ता को जानकारी दी। जिसके बाद सीएमडी ने पचौरी को एपीओ कर दिया और जेईएन घनश्याम मीणा को अतिरिक्त चार्ज दे दिया।