भारत-चीन का कारोबार रिकॉर्ड स्तर पर, 2017 में 5.5 लाख करोड़ की ट्रेडिंग

0
24

नई दिल्ली। डोकलाम व अन्य मुद्दों पर आपसी तनाव के बाद भी भारत और चीन के बीच कारोबार ऐतिहासिक ऊंचाई पर पहुंच गया है। साल 2017 में दोनों देशों के बीच करीब 5.5 लाख करोड़ रुपए का बाइलैटरल ट्रेड हुआ है। न्यूज एजेंसी के अनुसार साल 2017 में भारत से चीन को होने वाला एक्सपोर्ट बढ़ा है।

पहली बार 80 बिलियन डॉलर टच किया कारोबा
चाइनीज जनरल एडमिनिस्ट्रेशन ऑफ कस्टम के अनुसार साल 2017 में दोनों देशों के बीच कारोबार 18.63 फीसदी की दर से बढ़ा है। ऐसा पहली बार हुआ है, जब दोनों देशों के बीच 84.44 बिलियन डॉलर का कारोबार हुआ है। पिछले साल दोनों देशों के बीच 71.18 बिलियन डॉलर का कारोबार हुआ था।

भारत का एक्सपोर्ट 39.11 फीसदी बढ़ा
डाटा के अनुसार साल 2017 में भारत से चीने को होने वाला एक्सपोर्ट 39.11 फीसदी बढ़कर 16.34 बिलियन डॉलर यानी 1 लाख करोड़ से ज्यादा हो गया है। वहीं, इस दौरान भारत में होने वाला इंपोर्ट 14.59 फीसदी बढ़कर 68.10 बिलियन डॉलर यानी 4.4 लाख करोड़ से ज्यादा पहुंच गया है।

ट्रेड डेफिसिट 51.75 बिलियन डॉलर
ट्रेड रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचने के बाद भी भारत का ट्रेड डेफिसिट हाई बना हुआ है। साल 2017 में सालाना आधार पर भारत का ट्रेड डेफिसिट 8.55 फीसदी बढ़कर 51.75 बिलियन डॉलर यानी 3.36 लाख करोड़ पर पहुंच गया है। भारत लगातार चीन पर यह दबाव बना है कि फार्मा और आईटी सेक्टर को भी इंडियन फर्म्स के खोल दे, जिससे ट्रेड डेफिसिट कम करने में मदद मिलेगी।

चीन को एक्सपोर्ट करने वाला 24वां बड़ा देश
ट्रेड डाटा के अनुसार चीन को अपने प्रोडक्ट एक्सपोर्ट करने वाला भारत दुनिया का 24वां बड़ा देश बन गया है। वहीं, चीन के लिए भारत 7वां सबसे बड़ा एक्सपोर्ट डेस्टिनेशन बन गया है। साफ है कि अभी भारत से सामाना खरीदने की बजाए भारत को सामान बेचने के मामले में चीन बहुत आगे है।

इन बातों को लेकर है टेंशन
दोनों देशों के बीच पिछले कुछ महीनों में कई मसलों को लेकर टेंशन रही है। मसलन डोकलाम विवाद, चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर, एनएसजी में एंट्री को लेकर चीन द्वारा भारत की राह रोकने, आतंकी मसलों पर पाकिस्तान के पक्ष में आवाज उठाने जैसे मसले दोनों देशों के बीच तनाव के अहम मुद्दे रहे हैं।