एमपी सीएम की पत्नी साधना को अध्यक्ष चुनने पर जमकर चले लात-घूंसे

0
29

कोटा। अखिल भारतीय किराड़ क्षत्रिय महासभा का 11वां राष्ट्रीय महाअधिवेशन रविवार को खड़े गणेश जी स्थित धरणीधर गार्डन में आयोजित किया गया।  जहाँ मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पत्नी साधना सिंह को महासभा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने की घोषणा पर वर्तमान उपाध्यक्ष लोकेन्द्र सिंह के समर्थकों ने हंगामा कर दिया।

समर्थक चाहते थे कि लोकेन्द्र को अध्यक्ष बनाया जाए, लेकिन ऐसा नहीं हुआ तो कार्यक्रम के दौरान जमकर हंगामा हुआ। यह देखकर सीएम और उनकी पत्नी वहां से चले गए। इसके बाद भी हंगामा जारी रहा और लात-घूंसे तक चल गए। इस दौरान पुलिस को व्यवस्था संभालने में खासी मशक्कत करनी पड़ी।

पुलिस ने लोगों को तितर-बितर करने के लिए हल्का बल प्रयोग भी किया। करीब एक घंटे तक चले हंगामे के बाद सीएम शिवराज और उनकी पत्नी साधना सिंह मंच पर आए और समाज की ओर से उन्हें राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाये जाने पर धन्यवाद दिया। कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने किया। 

 दूसरे सत्र में ‘‘किराडू राज महोत्सव’’ के नाम से प्रकाशित इस स्मारिका का विमोचन भी किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ वन्देमातरम् से तथा समापन राष्ट्रगान जन गण मन से किया गया। कार्यक्रम में वन्देमातरम् और भारत माता के जयकारों के साथ ही शिवराज सिंह चौहान और किराड़ समाज जिन्दाबाद के नारे गूंजते रहे।

आगे बढना है तो स्वयं को क्षमतावान बनाना होगा
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि केवल समाज के नाम पर कोई व्यक्ति आगे नहीं बढ सकता है। यदि आगे बढना है तो स्वयं को क्षमतावान बनाना होगा। अपने अंदर की क्षमता को जाग्रत करके ही आगे बढा जा सकता है। उन्होंने आपातकाल के आन्दोलन में जेल जाने की घटना सुनाते हुए कहा कि आज भी जब आसमान में बादल चमकते हैं तो घुटने दर्द करते हैं।

उन्होंने कहा कि साढे नौ महीना जेल में रहा, लेकिन तय किया था कि जुल्म के आगे नहीं झुकुंगा, जुल्म किया तो और लडूंगा। अपने अंदर कार्य करने की प्रेरणा, जज़्बा, तड़प, जूनून पैदा करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि राजनीति की बात समाज के मंच से केवल प्रेरणा देने के लिए कर रहा हूं।

उन्होने कहा कि दुनिया में कोई काम ऐसा नहीं है, जिसे कोई व्यक्ति नहीं कर सकता है। समाज की पगड़ी का मान सदैव रखा है। समाज का मान कभी नहीं जाने दूंगा और समाज को नीचा दिखाने का काम कभी किया भी नहीं हैं और कभी करूंगा भी नहीं। शिक्षा हमारी प्रााथमिकता में और समाज के लिए हर व्यक्ति को सोचना चाहिए।

अकेले खेती पर निर्भर नहीं रहा जा सकता
महासभा को परीक्षा पूर्व प्रशिक्षण तथा कोचिंग की व्यवस्था करनी चाहिए। इसमें यदि आवश्यकता होती है तो सरकार भी सहयोग करने के लिए तैयार है। अब अकेले खेती पर निर्भर नहीं रहा जा सकता है।

खेती आज भी हमारी प्राथमिकता है, लेकिन इसके साथ कुछ अन्य धंधों की ओर भी रूझान करना होगा। महासभा को सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए कार्य करना होगा। वहीं स्वच्छ भारत, रक्तदान, वृक्षारोपण, बेटी बचाओ जैसे अभियान भी हाथ में लेने होंगे।

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि झालावाड़ में पहली बार आई तो सबसे पहले किराड़ समाज ने ही स्नेह दिया था। आज कभी इस समाज को देने की आवश्यकता हुई तो कभी भी पीछे नहीं हटूंगी। उन्होंने कहा कि जीत और हार चलती रहती है, लेकिन लोगों के राहत देने के काम राजस्थान की सरकार करती रहेगी।

कायापलट करने के लिए 10 से 15 साल चाहिए 
राजस्थान में 36 कौम का साथ लेकर मजबूत प्रदेश बनाने का काम किया है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ, गुजरात और मध्यप्रदेश में 15 साल तक भाजपा का शासन रहा तो वहां कायापलट हो गई। कायापलट करने के लिए 10 से 15 साल तो चाहिए ही होते हैं। हमें भी कामयाब होने के लिए कार्य करना होगा।

नवनियुक्त राष्ट्रीय अध्यक्ष साधना सिंह ने कहा कि समाज के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आई थी, लेकिन समाज की ओर से अध्यक्ष बना दिया गया है। इसके लिए सभी का सहयोग चाहिए, तब ही यह जिम्मेदारी निभा पाऊँगी । व्यक्ति के नाते से पद का कोई महत्व नहीं होता है। बड़े काम करने के लिए सबका साथ चाहिए।

इससे पहले पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष डाॅ. गुलाब सिंह किरार ने साधना सिंह के नाम का प्रस्ताव रखा तथा ओम मेहता तथा लोकेन्द्र सिंह राजपूत ने उनके नाम का समर्थन किया। इसके बाद निर्वाचन अधिकारी सरोज वर्मा ने उनके निर्वाचन की घोषणा की।

महाकाल बलिदान मांग रहे हैं
राष्ट्रीय उपाध्यक्ष लोकेन्द्र सिंह राजपूत ने कहा कि कभी कभी ऐसी घड़ी भी आती है, जब हिम्मत से काम लेना पड़ता है। सभी लोग उत्साहितम होकर काम करेंगे तमो सभी का भविष्य सुरक्षित रहेगा। आज नही तो कल हम सभी को मंजिल जरूर मिलेगी, लेकिन समय से पहले कुछ नहीं मिल सकता है। हम अपने मुखिया के लिए अपना बलिदान दे रहे हैं। पूर्व में भी मुरैना से चुनाव न लड़कर बलिदान दिया था। एक बार फिर महाकाल हमारा बलिदान मांग रहे हैं।

समारोह में यह भी मौजूद थे
प्रदेश प्रवक्ता आशीष मेहता ने बताया कि महाअधिवेशन में महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवाजी पटेल, मध्यप्रदेश एग्रो के चैयरमेन एवं राज्यमंत्री रामकिशन चौहान, नगर निगम भोपाल के महापौर एवं राष्ट्रीय महामंत्री डाॅ. सुरजीत सिंह चौहान, महिला इकाई की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती वासंती मांगरोले, नवयुवक मण्डल के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवांशु सिंह किराड़, विशेष आमंत्रित सदस्य एवं शिवराज सिंह चौहान की धर्मपत्नी साधना सिंह चौहान, कार्यक्रम संयोजक रामकुमार मेहता, स्वागताध्यक्ष ओमप्रकाश मेहता समेत कईं लोग उपस्थित थे।