किसान और व्यापार के सहयोग से भारत बनेगा मजबूत : मेघवाल

0
161

फेडरेशन आॅफ इंडियन स्पाइस स्टेकहाॅल्डर्स का दो दिवसीय राष्टृीय वार्षिक सम्मेलन

-प्रीति जोशी /दिनेश माहेश्वरी 
जयपुर। यह दुनिया 21वीं सदी की ओर कदम बढ़ा चुकी है। यह 21वीं सदी एशिया की होगी, जिसका नेतृत्व भारत करेगा। इसके लिए यह जरूरी है कि देश का व्यापारी और किसान आपसी सहयोग की भूमिका में आ जाए। इसी भूमिका को साकार करने के लिए फेडरेशन आॅफ इंडियन स्पाइस स्टेकहाॅल्डर्स की स्थापना की गई।  केंद्रीय राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने देश के किसानों और व्यापारियों को मजबूत बनाने पर जोर देते हुए देश के विकास की बात कही।

फेडरेशन के दो दिवसीय वार्षिक सम्मेलन के समापन समारोह में अर्जुन राम मेघवााल ने कहा कि सबका साथ और सबका हाथ वाली अवधारणा को फलीभूत करते हुए भारत दुनिया की मजबूत अर्थव्यवस्था बनने में सफल हो पाएगा। इस सदी में मजबूत अर्थव्यवस्था बनने की दौड़ में भारत, चीन, जापान और यूरेशिया जैसे चार देशों  में प्रतिस्पर्धा है और भारत लोकतांत्रिक, सांस्कृतिक छवि के कारण भारत को मजबूती मिलेगी।

उन्होंने कहा कि नई तकनीकों के विकास के साथ ही कृषि उत्पादन में वृद्धि हो रही है, जिससे किसानों और व्यापारियों दोनों को ही लाभ मिल रहा है। कृषि के लिए विकसित तकनीक की वजह से ही राज्य में जीरा और मैथी की मसाला फसलों का उत्पादन लगातार बढ़ रहा है। उन्होंने आश्वासन  दिया कि किसानों की आय दुगुनी करने के प्रयास सरकार द्वारा किए जा रहे हैं।

स्पाइस बोर्ड का पुनर्गठन हो
अधिवेशन में फेडरेशन के चेयरमैन अश्विन नायक ने इस  दौरान स्पाइस बोर्ड के पुनर्गठन की मांग रखी। साथ ही उन्होंने किसानों के हित के लिए धरतीपुत्र विकास योजना की घोषणा की, जिसमें पहले वर्ष में 5 लाख रुपये की राशि किसानों के सहयोग के लिए खर्च की जाएगी। इस अवसर पर डीएस मसाले के ओ.पी. खंडूजा को ज्वैल आॅफ स्पाइस इंडस्टृी के सम्मान से नवाजा गया।

धरतीपुत्र विकास योजना कोष में एक लाख रुपये देने की घोषणा
खंडूजा ने इस मौके पर धरतीपुत्र विकास योजना कोष में एक लाख रुपये देने की घोषणा की। खंडूजा ने इस अवसर पर कहा कि मसाला फसलों का उत्पादन 85 प्रतिशत असंगठित ढंग से होता है, जिसे संगठित करना एक बड़ी चुनौती है। इस दौरान कुंवर जी कमोडिटीज के नरेंद्र भाई ठक्कर को यंग आंत्रप्रिन्योर की श्रेणी में सम्मानित किया गया।

दो दिवसीय अधिवेशन का शनिवार को मसाला की फसलों पर पैनल डिस्कशन और मसाला उद्योगों में आ रही चुनौतियों पर चर्चा करने के साथ ही सम्मान समारोह के साथ समापन हुआ। विभिन्न सत्रों में धनिया, जीरा, सौंफ और मैथी की फसलों की अंतरराश्टृीय स्तर पर इनकी स्थिति पर चर्चा की गई। समारोह के अंत में लाइफटाइम अचीवमेंट और फाॅर्मर कैटेगरी में अवार्ड दिए गए।

गुजरात स्थित पालनपुर में दांतिवाड़ा कृषि विश्वविद्यालय द्वारा सौराष्टृ, कच्छ, उंझा और राजस्थान के बाड़मेर, जैसलमेर, जोधपुर, जालोर, सांचोर व नागौर क्षेत्र में सौंफ, जीरा, मैथी और धनिया की फसल पर तैयार की गई सर्वे रिपोर्ट प्रस्तुत की गई। साथ ही धनिया, जीरा और सौंफ के संबंध में इंटरनेशनल क्राॅप सर्वे भी प्रस्तुत किया गया।

धनिया डिस्कशन पैनल में प्रमुख रूप से व्यापार दूत कोटा से मुकेश भाटिया, रामगंज मंडी से  
चिराग पटेल, रामनलाल मनीभा ,भारत दशानी कृष्ण राजकोट,  कैलाश,घासीलाल, रामबाबू जयपुर, आदित्य मोटा मंदसौर शामिल थे। पैनल डिस्कशन का संचालन मंदसौर के बृजेश गर्ग ने किया शामिल थे। 

इसके अलावा तकनीकी विशेषज्ञों द्वारा धनिया और जीरा पर भविष्य की रणनीति प्रस्तुत की गई। अधिवेशन के सफल समापन पर फेडरेशन के सचिव तेजस गांधी ने सभी का आभार व्यक्त किया। इस अधिवेशन में मुख्य तौर पर टृस्टी पुखराज चौपड़ा, दिनेश सोनी, नीरज पटेल, किशोर शाह , दिनेश भट्टड़, मितेश पटेल ने विभिन्न स़त्रों का संचालन किया।