सीएस फाउंडेशन : चूड़ी काटने वाले की बेटी आयशा को 23वीं रैंक

0
14

कोटा। इंस्टीट्यूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरीज ऑफ इंडिया की ओर से बुधवार को जारी सीएस फाउंडेशन के रिजल्ट में चूड़ी काटने वाले मोहम्मद फारुख की बेटी आयशा ने ऑल इंडिया 23वीं रैंक हासिल की है। कोटा चैप्टर से 75 स्टूडेंट्स ने परीक्षा दी। इसमें से 57 ने अगले कोर्स के लिए एलिजिबिलिटी हासिल कर ली है।

कोटा चैप्टर टॉपर आयशा ने 400 में से 326 अंक हासिल किए हैं। दूसरा स्थान महावीर नगर थर्ड की चारुल जैन (306) ने हासिल किया। तीसरे स्थान पर सौरभ जैन रहे। उन्होंने 400 में से 302 अंक हासिल किए हैं। कोटा चैप्टर की चेयरपर्सन कल्पना जैन ने बताया कि चैप्टर का रिजल्ट काफी अच्छा रहा है।

बचत के पैसों से पिता ने कराई कोचिंग
आयशा ने हिंदी मीडियम में पेपर दिया था। वह अपने पिता फारुख और मां सायराबानो को सफलता का श्रेय देती हैं। आयशा बताती हैं कि पिता ने बचत के पैसों से मेरी कोचिंग करवाई। हमारा परिवार रामपुरा में रहता है। आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होने के कारण कभी-कभी यहां-वहां से भी पैसों का बंदोबस्त करना पड़ता था।

कोचिंग के अलावा मैं 5 से 6 घंटे पढ़ती थी। दिन में कुल 10 घंटे की पढ़ाई हो जाती थी। परीक्षा के समय 12 घंटे तक पढ़ाई करती थी। पढ़ाई के लिए पेरेंट्स ने अलग से रूम दे रखा था। इस कारण पढ़ने में कोई दिक्कत नहीं आती थी।

सीएस फाउंडेशन हिंदी में देने के बाद मैं आगे की पढ़ाई इंग्लिश मीडियम से करूंगी। मेरी स्कूलिंग गवर्नमेंट गर्ल्स स्कूल से हुई है। आयशा अभी जेडीबी कॉलेज में पढ़ रही हैं। रिलैक्स होने के लिए वह गाने सुनती थी।