पेट्रोल-डीजल पर एडिशनल एक्साइज ड्यूटी खत्म, 8% रोड सेस लगाया

0
15

नई दिल्ली। फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली ने गुरुवार को मोदी सरकार का आखिरी पूर्ण बजट पेश किया। केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी 2 रुपए कम कर दी। लेकिन 8% रोड सेस लगा दिया। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि पेट्रोल-डीजल दो रुपए सस्ते हो गए हैं। लेकिन इसे लेकर अभी स्थिति साफ नहीं है।

मिडल क्लास के लिए खुशखबरी
– जेटली ने बजट में एक्साइज ड्यटी 2 रुपए प्रति लीटर कम करने का एलान किया। कुछ दिनों पहले ऑयल मिनिस्ट्री ने फाइनेंस मिनिस्ट्री को लेटर लिखकर कहा था कि एक्साइज ड्यूटी अब कम की जानी चाहिए। बता दें कि मुंबई में एक लीटर पेट्रोल की कीमत 80 रुपए हो चुकी है। ये रिकॉर्ड हाई है।
– सरकार ने ब्रांडेड और अनब्रांडेड दोनों तरह के पेट्रोल और डीजल पर एक्साइट ड्यूटी घटाई है। इसका मतलब ये हुआ कि अब सभी तरह का पेट्रोल और डीजल 2 रुपए प्रति लीटर तक सस्ता हो जाएगा।
– बता दें कि पिछले साल अक्टूबर में आखिरी बार एक्साइज ड्यूटी घटाई गई थी। तब पेट्रोल का दाम देश भर में करीब 80 रुपए प्रति लीटर होने वाला था।

सरकार पर बोझ बढ़ेगा
– एक्साइज ड्यूटी करके सरकार ने हैरान करने वाला कदम उठाया है। दरअसल, इंटरनेशनल मार्केट में क्रूड आॅयल महंगा होता जा रहा है। इसकी वजह से पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स महंगे होते जा रहे हैं। फिलहाल, ब्रेंट क्रूड ऑयल 68 डॉलर प्रति बैरल है।
– मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह रेट आने वाले दिनों में 80 या 100 डॉलर प्रति बैरल तक जा सकता है। यानी

सरकार के लिए मुसीबतें बढ़ेंगी।
– तीन साल पहले जब क्रूड ऑयल की कीमतें कम हुईं थीं तब सरकार ने पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी 12 रुपए और डीजल पर 13.77 रुपए बढ़ाकर अपना खजाना भर लिया था।

जीडीपी पर बुरा असर पड़ेगा
– इकोनॉमिक सर्वे 2018 में कहा गया था कि क्रूड ऑयल अगर 10 डॉलर प्रति बैरल की रफ्तार से इसी तरह बढ़ता रहा तो जीडीपी को इससे 0.2 से 0.3% का हर साल नुकसान होगा। और इससे वित्तीय घाटा भी 9 से 10 बिलियन हर साल बढ़ जाएगा।