अफगानिस्तान, पाक और उत्तर भारत भूकंप से हिला

0
26

नई दिल्ली/काबुल/इस्लामाबाद। उत्तरी अफगानिस्तान में बुधवार को आए शक्तिशाली भूकंप से दिल्ली तक सिहरन दौड़ गई। अफगानिस्तान के हिंदुकुश पर्वतों में आए 6.1 तीव्रता के इस भूकंप से पाकिस्तान के क्वेटा में एक बच्ची की मौत हो गई है।

अफगानिस्तान के साथ ही पाकिस्तान के बलूचिस्तान में भूकंप से नुकसान हुआ है। कई मकानों में दरारें आई हैं। भूंकप की वजह से अफगानिस्तान और पाकिस्तान में कई लोग घायल भी हो गए हैं। दिल्ली-NCR समेत उत्तर भारत भी हिलाः अफगानिस्तान में आए इस भूकंप की तीव्रता इतनी ज्यादा थी कि इसके झटके पूरे उत्तर भारत में महसूस किए गए।

दिल्ली-एनसीआर में दोपहर 12 बजकर 37 मिनट पर अचानक झटकों ने लोगों को झकझोर दिया। लोग बदहवास होकर घरों और दफ्तरों से बाहर निकल आए। भूकंप के सबसे ज्यादा झटके जम्मू-कश्मीर में महसूस किए गए। इसके साथ ही हिमाचल, उत्तर प्रदेश और पंजाब में भी भूकंप आया।

शिमला में भी दौड़ी सिहरनः एक अधिकारी ने कहा कि भूकंप में किसी तरह के जानमाल की कोई हानि नहीं हुई है। मौसम कार्यालय के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि हिमाचल में भूकंप के झटके दोपहर 12:36 पर महसूस किए गए और इसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 6.2 दर्ज की गई। भूकंप के झटके शिमला, सोलन, धर्मशला, कांगड़ा, पालमपुर, बिलासपुर, ऊना, हमीरपुर और मंडी समेत राज्य के कई हिस्सों में महसूस किए गए।

जम्मू-कश्मीर में फ्लाईओवर गिरा
भूकंप की वजह से जम्म-कश्मीर में बलूचीबाग के पास निर्माणाधीन जहांगीर चौक-रामबाग फ्लाईओवर का गार्डर गिर गया। अधिकारियों के मुताबिक इस घटना में कोई घायल नहीं हुआ। लोकनिर्माण मंत्री नईम अख्तर के मुताबिक गार्डर खंभे से फिसलकर नीचे एक क्रेन पर गिरा। अख्तर ने कहा, ‘गार्डर को कुछ समय पहले ही खंभों पर लगाया गया था और अब तक यह जुड़ा नहीं था।’

पाकिस्तान में भूकंप से एक बच्ची की मौत
पाकिस्तान में भी 6.1 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए। इन झटकों की वजह से बलूचिस्तान के लासबेला इलाके में एक मकान ढह गया और उसमें दबकर एक लड़की की मौत हो गई। भूकंप से कम से कम 11 लोगों के घायल होने की भी जानकारी मिली है।

धरती से 191 किलोमीटर नीचे केंद्र : अमेरिकी जियॉलजिकल सर्वे (यूएसजीएस) के मुताबिक भूकंप भारतीय समयानुसार दोपहर 12 बजकर 37 मिनट पर आया। भूकंप की तीव्रता 6.1 मापी गई। इसका केंद्र हिंदुकुश पर्वतों में ताजिकिस्तान से लगती अफगानिस्तान की उत्तरी सीमा पर 191 किमी की गहराई में था।