संतूर वादक झालावाड़ की बेटी वर्षा को फर्स्ट लेडी पुरस्कार

0
20

झालावाड़| राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने विभिन्न क्षेत्रों में पहली बार उल्लेखनीय योगदान करने वाली 112 महिलाओं को फर्स्ट लेडी अवार्ड से राष्ट्रपति भवन में सम्मानित किया।  इनमें झालावाड़ की बेटी डॉ. वर्षा अग्रवाल भी शामिल हैं। डॉ. वर्षा झालावाड़ की ऐसी अनूठी संगीत प्रतिभा है, जिन्हें भारत की पहली महिला संतूर वादक होने का गौरव प्राप्त है।

वर्तमान में वह शासकीय कन्या स्नातकोत्तर उत्कृष्ट महाविद्यालय उज्जैन के संगीत विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर के पद पर कार्यरत हैं। अभी इनका पूरा परिवार झालावाड़ के मंगलपुरा में ही रहता है। उल्लेखनीय है कि डॉ. वर्षा अग्रवाल ने 6 वर्ष की उम्र में गायन व 8 वर्ष की उम्र में संतूर की शिक्षा प्रारंभ की।

वे भारत की अकेली ऐसी महिला कलाकार हैं जिन्हें संतूर पर शानदार प्रदर्शन के लिए अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त हुई है। इन्होंने भारत के साथ-साथ अमेरिका, ब्रिटेन, संयुक्त अरब अमीरात, फिलिस्तीन, मॉरिशस, ओमान, जॉर्डन, अम्मान, दक्षिण अफ्रीका, आयरलैण्ड, स्वीट्जरलैंड, इजरायल और कई अन्य देशों में संतूर वाद्य यंत्र पर प्रस्तुति दी है।

डॉ. अग्रवाल आईसीसीआर सांस्कृतिक मंत्रालय की एक प्रतिष्ठित कलाकार होने के साथ-साथ दूरदर्शन व आकाशवाणी की डायरेक्ट ए ग्रेड पाने वाली प्रथम महिला संतूर वादिका भी हैं। इन्हें पूर्व में भी डागर घराना अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है।

इसके साथ ही डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम नेशनल अवार्ड, सम्राट विक्रमादित्य सम्मान, कला विदुषी अवार्ड, संगीत परम्परा रत्न अवार्ड, नेशनल वुमेन एक्सीलेंस अवार्ड, अवंतिका सरिता सम्मान से भी सम्मानित किया जा चुका है।