उप चुनावों में भाजपा को सबक सिखाएगा कहार समाज

0
129

कोटा। कहार, केवट, भोई,कश्यप, मेहरा, निषाद समाज आरक्षण संघर्ष समिति ने प्रदेश में उप चुनावों में भाजपा को वादाखिलाफी के खिलाफ सबक सिखाने का निर्णय किया है।

समिति के प्रदेश संयोजक उमा शंकर कहार ने शनिवार को पत्रकार वार्ता में बताया कि भगवान राम को गंगा पार कराने वाले केवट, कहार, भोई,कश्यप् और मेहरा समाज के लोगों से गत विधान सभा चुनावों से पूर्व वसुंधरा राजे ने केवट बोर्ड के गठन का आश्वासन दिया था, जिसे आज तक पूरा नहीं किया गया।

कहार ने बताया कि समाज के प्रदेश में 25 लाख से अधिक लोग हैं। मांडलगढ में 20 हजार,अजमेर लोकसभा क्षेत्र में 2 लाख एवं अलवर में लगभग एक लाख मतदाता हैं। 3 नवम्बर को अजमेर एवं 25 दिसम्बर को झालावाड़ में रैली एवं महापंचायत के माध्यम से सरकार से पुनः मांग कर वादा पूरा करने का अनुरोध किया गया।

उन्होंने बताया कि पिछली कांग्रेस सरकार के समय भी जिला मुख्यालयों पर धरना और प्रदर्शन किया गया था, तब भाजपा के जिम्मदार लोगों ने आंदोलन का समर्थन किया था। प्रदेश में भाजपा की सरकार के चार साल पूरे होने जा रहे हैं, लेकिन कोई पहल नहीं की गई,  जिससे समाज में गहरा रोष व्याप्त है। जबकि उत्तर प्रदेश में पूर्ववर्ती समाजवादी पार्टी की सरकार ने भी समाज की आवाज को सुना और बोर्ड का गठन कर आरक्षण पर विचार किया। समाज को राहत प्रदान की।

उन्होंने बताया कि राजस्थान में गुर्जर समाज की तर्ज पर देवनारायण बोर्ड का गठन कर समाज उत्थान के काम किए जाएं।राजस्थान में नदियों और तालाबों के सहारे जीवन यापन करने वाले समाज की खराब हालात पर कोई सुनवाई नहीं है। समाज ने निर्णय किया है कि 22 जनवरी से मांडलगढ़, अजमेर एवं अलवर में भाजपा को हराने का अभियान शुरू किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि 24 को मांडलगढ़ के जालिया गांव में महापंचायत होगी तथा भीलवाड़ा के धानेश्वर कलां में मंदिर में प्रतिमा स्थापना कार्यक्रम के दौरान बड़ी संख्या में समाज के बंधु एकत्र होंगे एवं भाजपा को सबक सिखाने की कार्रवाई में जुट जायेंगे । समिति के पदाधकारी उप चुनाव वाले क्षैत्रों में समाज के लोगों के संपर्क कर रहे है।

पत्रकार वार्ता में समिति के पदाधिकारियों ने भी विचार व्यक्त किए। पत्रकार वार्ता में महिला मोर्चा की सरिता केवट,राजेश कहार, रामराज कहार और तेजपाल कश्यप भी मौजूद थे। ब्राह्मण समाज के पदाधिकारी रजनीकांत शर्मा एवं सुधीर शर्मा भी कहार समाज को समर्थन करने पहुंचे।