एक किमी लंबी हरितिमा पट्टी को स्वच्छ करेगी एलन ब्रिगेड टीम

0
30

स्मार्ट सिटी : घटोतकच्छ सर्किल से गणेशशंकर विद्यार्थी हरितिमा पट्टी में कचरा हटाने का अभियान प्रारंभ

कोटा। स्वच्छता सर्वेक्षण,2018 की सूची में कोटा की रैकिंग सुधारने के लिए एलन कोचिंग संस्थान द्वारा शहर के 7 वार्डो के पार्क, ग्रीन बेल्ट तथा आवासीय कॉलोनियों में जमा कचरे की नियमित सफाई की जा रही है। एलन स्वच्छता ब्रिगेड की टीम के 11 सदस्यों ने गुरूवार से घटोतकच्छ सर्किंल से महावीर नगर-प्रथम तक गणेश शंकर विद्यार्थी हरिमिता पट्टी में 4 वर्ष से जमा गंदगी को साफ करने का बीड़ा उठाया।

शुक्रवार को टीम सदस्यों ने सेक्टर-6 में मुख्य मार्ग पर हरितिमा पट्टी में कचरे के ढेरों का निस्तारण किया। अगले 4-5 दिनों तक इस समूची हरितिमा पट्टी का कचरा साफ किया जाएगा।  एलन के वाइस प्रेसीडेंट भानुप्रताप सिंह ने बताया कि एलन स्वच्छता ब्रिगेड की 10 टीमों में 110 सदस्य हैं, जो रोज सुबह 9 से शाम 5 बजे तक सफाई कर रहे हैं।

इनमें इंद्रविहार, राजीव नगर, महावीर नगर-प्रथम, द्वितीय, तृतीय, तलवंडी, कुन्हाड़ी तथा लैंडमार्क सिटी के आवासीय क्षेत्र शामिल हैं। तीन टीमें शहर में ऑनलाइन शिकायत मिलने पर शहर के विभिन्न हिस्सों में जाकर सफाई कर रहे हैं। प्रत्येक टीम में 11 सदस्य तथा एक सुपरवाइजर तैनात है।

महापौर वार्ड में क्यों नहीं आ रहे
क्षेत्र के नागरिकों ने आक्रोश जताया कि महापौर के वार्ड-53 में सबसे ज्यादा गंदगी फैली हुई है। एलन संस्थान की टीमें वर्षों से जमा गंदगी के ढेर हटा रही है। निगम प्रशासन अपने सफाई कर्मचारियों से नियमित सफाई क्यों नहीं करवा पा रहा है।

जनता से नगरीय कर वसूलने के बाद मूलभूत सुविधाओं पर ध्यान क्यों नहीं दिया जा रहा। हरितिमा पट्टी में पशुपालकों ने गंदगी के ढेर लगा रखे हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई करने की बजाय उन्हें राजनीतिक संरक्षण दिया जा रहा है। महापौर को वार्ड में आकर गंदगी को देखना होगा।

4 हजार खर्च कर कचरा पात्र बनवाया
सेक्टर-6 में रिटायर्ड बैंक मैनेजर श्रीमन लाल मीणा ने बताया कि उन्होंने कई बार नगरनिगम व यूआईटी में जाकर ग्रीन बेल्ट में गंदगी की सफाई के लिए शिकायत दर्ज करवाई। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। उन्होंने घर के सामने 2 वर्ष पूर्व ग्रीन बेल्ट में 4 हजार रूपए खर्च कर कचरा पात्र का निर्माण करवाया। वे 2008 से रोज सुबह स्वयं कचरा जलाते हैं।

निगम के सफाई कर्मचारी दूसरे स्थानों से कचरा लाकर नालियों व पार्क में डाल देते हैं, जिससे नालियां अवरूद्ध हो रही हैं। वे तीन बार यहां नए पौधे लगा चुके हैं। उन्होंने एलन के इस प्रयास की सराहना की। पुलिस महानिरीक्षक कार्यालय में ऑफिस अधीक्षक रहे रामकिशन गौड ने बताया कि स्मार्ट सिटी के मुख्य मार्गों पर कचरा देखकर शर्म आती है।

यहां असामाजिक तत्वों का जमावड़ा होने से सफाई होना मुश्किल है। महापौर एक बार मौके पर आकर अपने वार्ड की स्थिति देखें। यूआईटी के चेयरमेन को करोड़ो की जमीन पर पशुपालकों द्वारा किए जा रहे अतिक्रमणों को हटाना चाहिए।

सेक्टर-6 में ही सरकारी स्कूल की महिला टीचर ने पिछले हफ्ते 6-बी-31 के सामने ग्रीन बेल्ट की टूटी बाउंड्रीवाल को ठीक करवाने के लिए एक ट्रॉली पत्थर मंगवाकर मजदूरों से चारदीवारी का सुरक्षित कराया। उनका कहना है कि हरितिमा पट्टी में चारदीवारी टूटी होने से पैदल घूमते समय महिलाएं असुरक्षित महसूस करती है।

दोबारा कचरा न फैलाएं
स्मार्ट सिटी के आवासीय क्षेत्रों में स्वच्छता बनाए रखने के लिए जनजागरूकता जरूरी है। नागरिक एलन स्वच्छता ब्रिगेड के हेल्पलाइन नंबर-9001099107 पर वार्ड में गंदगी के फोटो भेजकर वॉट्सअप पर ही शिकायत दर्ज करा सकते हैं। शहरवासी अपने आसपास खुले में कचरा डालने वालों को रोकें। हम सब मिलकर शहर को स्वच्छ बनाने में सहयोग करें।
– राजेश माहेश्वरी, निदेशक, एलन