भारतीय सड़कों के विकास पर सेमिनार 20 व 21को, विशेषज्ञ इंजीनियर जुटेंगे

0
12

कोटा । दी इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियर्स तथा राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में आजादी के बाद से सड़कों के विकास विषय पर अखिल भारतीय संगोष्ठी 20 तथा 21 जनवरी को आयोजित की जाएगी।

गुरूवार को इंजीनियर्स भवन पर आयोजित पत्रकार वार्ता में इंस्टीट्यूट के चेयरमेन सीकेएस परमार एवं संयोजक धीरेंद्र माथुर ने बताया कि सेमिनार में विभिन्न प्रदेशों से आने वाले प्रतिनिधि केस स्टडीज के माध्यम से विभिन्न परियोजनाओं में प्रयुक्त आधुनिक विश्वस्तरीय डिजायन, मशीनरी , मेटेरियल तथा तकनीक पर विचार करेंगे।

हाईवे निर्माण क्षेत्र में कार्य करने वाले इंजीनियर्स विश्व स्तरीय तकनीक तथा निर्माण सामग्री की जानकारी देंगे। वरिष्ठ अधिकारी एवं शोधकर्त्ताओं व छात्रों को भी भाग लेने का अवसर मिलेगा। उद्घाटन सत्र 20 जनवरी को इंजीनियर्स भवन झालावाड़ रोड़ पर सुबह 10 बजे होगा।

वक्ता राष्ट्रीय ग्रामीण सड़क विकास एजेंसी एनआरआरडीए नई दिल्ली के निर्देशक आईके पटेरिया होगे। अध्यक्षता तकनीकी विश्व विद्यालय के कुलपति प्रो.एनके कौशिक करेंगे।

मुख्य अतिथि जिला कलेक्टर रोहित गुप्ता रहेंगे। राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय के प्रो. बीपी सुनेजा एवं एचडी चारण तथा प्रो. सीडी प्रसाद ने बताया कि 21 जनवरी को समापन समारोह 11.30 बजे राजस्थान तकनीकी विश्व विद्यालय के ऑडिटोरियम में होगा।

मुख्य अतिथि कुलपति प्रो. एनके कौशिक होंगे तथा विशिष्ट अतिथि सार्वजनिक निर्माण विभाग के पूर्व मुख्य अभियंता जीपी शर्मा एवं कॅरियर पाइंट विश्वविद्यालय के कुलपति डीएन राव होंगे।

 प्लास्टिक वेस्ट एवं स्लरी से सड़क निर्माण पर होगा व्याख्यान
सेमिनार में प्लास्टिक वेस्ट से नहीं टूटने वाली सड़कों तथा कोटा स्टोन की स्लरी से बनने वाली सड़कों की तकनीक की जानकारी दी जाएगी। प्रो. चारण ने बताया कि कोटा में थर्मल की फ्लाईएश का सड़क निर्माण एवं अन्य निर्माण में कार्य करने की तकनीक विकसित करने में आरटीयू का बड़ा योगदान है।