राजस्थान की सबसे बड़ी जीत रिफाइनरी : राजे

0
13

बाड़मेर/ जयपुर | मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने पचपदरा में मंगलवार को रिफाइनरी परियोजना के शुभारंभ अवसर पर कहा कि इस परियोजना के बदले कांग्रेस 56 हजार करोड़ रुपये का कर्ज प्रदेशवासियों पर लादने जा रही थी। हमने इसे 40 हजार करोड़ रुपये कम कर दिया।

40 हजार करोड़ रुपये की बचत कर लगाई जा रही ये रिफाइनरी सही मायनों में यह राजस्थान और राजस्थानियों की सबसे बड़ी जीत है। रेगिस्तान की मिट्टी को सोने में बदलने वाली इस परियोजना की परिकल्पना भी हमारे पिछले शासन काल में शुरू हुई थी जब इस क्षेत्र में तेल के पहले कुए मंगला को चालू किया गया था और आज कार्य का शुभारंभ भी प्रधानमंत्री कर रहे हैं। मुझे पूरा विश्वास है कि रिफाइनरी का उद्घाटन भी हम प्रधानमंत्री मोदी के हाथों ही कराएंगे।

4 साल में पांच गुना बढ़ा सोलर एनर्जी उत्पादन
राजे ने कहा कि हमने नई सौर ऊर्जा नीति के जरिए किसानों को विकास में भागीदार बनाया। उन्होंने कहा कि आने वाले एक साल में 2255 मेगावाट के सौर ऊर्जा उत्पादन के साथ ही भड़ला विश्व का सबसे बड़ा सोलर पार्क बनाया जायेगा। जैसलमेर के नोख में 1 हजार मेगावाट के एक अन्य सोलर पार्क की स्थापना की जाएगी।

इसके अलावा रिफाइनरी प्रोजेक्ट में स्थानीय युवाओं को रोजगार दिलाने के लिए बाड़मेर आईटीआई में रिफाइनरी और पेट्रो केमिकल्स के क्षेत्र में कौशल प्रशिक्षण शुरू किया जा रहा है। अगर जैसलमेर-बाड़मेर क्षेत्र रेल लाइन के माध्यम से मूंदड़ा पोर्ट तक जुड़ जाए तो इस क्षेत्र की अर्थव्यवस्था को गति मिलेगी।

2022 तक रिफाइनरी के उद्‌घाटन का लक्ष्य
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को पचपदरा में हैलीपेड से सीधे कार्यक्रम स्थल पर एचपीसीएल की ओर से प्रजेंटेशन में शरीक हुए। वहां मोदी ने रिफाइनरी का प्रजेंटेशन देेखा।

एचपीसीएल के सीएमडी एमके सुराणा उनको जानकारी देते रहे। मोदी ने एचपीसीएल से सिर्फ एक ही सवाल किया कि यह प्रोजेक्ट पूरा कब होगा? इस रिफाइनरी के उद्घाटन की तारीख बताइए। इसके बाद सभा को संबोधित करते मोदी ने कहा कि रिफाइनरी प्रोजेक्ट 2022 तक पूरा कर लेंगे।

बीएस-6 मानक की देश की पहली रिफाइनरी
90 लाख रिफाइनरी की क्षमता
30 साल क्रूड तेल का उत्पादन
14 जिलों को सीधे तौर पर मिलेगा फायदा
250 मेगा. बिजली का उत्पादन पेटकॉक से