भामाशाह मंडी बनी आईएसओ प्राप्त करने वाली राजस्थान की पहली मंडी

0
224

कोटा। भामाशाह कृषि उपज मंडी समिति में आधे से ज्यादा पद खाली हैं। मात्र दस मंत्रालयिक कर्मचारियों एवं सहायक कर्मचारी कार्यरत हैं, लेकिन यहाँ के कर्मचारियों में कुछ अलग है, तो वह है खुद को साबित कर दिखाने का जज्बा। जिसके कारण राजस्थान की सबसे बड़ी मंडी कोटा को आईएसओ 9001-2015 सर्टिफिकेट मिल गया।

अंतरराष्ट्रीय स्तर के मानकों पर खरा उतरने के बाद किसी संस्था को यह सर्टिफिकेट दिया जाता है। जयपुर से आये आईएसओ बोर्ड की टीम के इंटरनल ऑडिटर योगेंद्र शर्मा ने यह सर्टिफिकेट मंडी सचिव डॉ. आरपी कुमावत एवं उनके ऑफिस में कार्यरत कर्मचारियों को सौंपा।

मंडी समिति के सचिव डॉ. रामपाल कुमावत ने बताया किराजस्थान में कृषि उपज मंडी का यह पहला ऑफिस है जो आईएसओ प्रमाणित हुआ है।  रिकॉर्ड कीपिंग, सेफ्टी मेजर्स ई -गवर्नेस,पालिसी डिस्प्ले, फाइलों की टेगिंग आदि मापदंडों पर खरा उतरने के बाद यह सर्टिफिकेट दिया है।  

सामाजिक सरोकार की राजीव गाँधी कृषक साथी योजना के तहत प्राप्त होने वाले आवेदन पत्रों की प्राप्ति से निस्तारण तक की प्रकिया भी ऑनलाइन की जाती है। गौरतलब है कि मंडी में सीजन में एक लाख बोरी से ज्यादा जिंसों की आवक होती है, जिसको मात्र इतने से कर्मचारियों द्वारा दिन -रात मेहनत कर उचित मूल्य पर विपणन की व्यवस्था की जाती है।