भारत-इजरायल में डिफेंस समेत 9 करार : नेतन्याहू बोले- मोदी क्रांतिकारी नेता

0
20

नई दिल्ली। इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू और नरेंद्र मोदी की सोमवार को हैदराबाद हाउस में मुलाकात हुई। भारत-इजरायल में डिफेंस-पेट्रोलियम समेत 9 करार हुए।

इससे पहले नेतन्याहू का राष्ट्रपति भवन में औपचारिक स्वागत किया गया। नेतन्याहू ने कहा कि ये भारत-इजरायल के रिश्तों में नए युग का सवेरा है। नेतन्याहू और उनकी पत्नी सारा ने राजघाट जाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि भी दी। नेतन्याहू रविवार को 6 दिन के दौरे पर नई दिल्ली पहुंचे थे।

दोनों देशों के बीच नया अध्याय शुरू होगा
– मोदी ने कहा, “अच्छे दोस्त का भारत में स्वागत है। आपके (नेतन्याहू) दौरे से दोनों देशों के बीच रिश्तों का नया अध्याय शुरू होगा।”
– “भारत और इजरायल के बीच डेलिगेशन लेवल टॉक हुई। इस दौरान साइबर को-ऑपरेशन, साइंस एंड टेक्नोलॉजी, फिल्म को-ऑपरेशन, होम्योपैथी अल्टरनेटिव मेडिसिन समेत कुल 9 एमओयू साइन हुए।”
– “आज और कल हम दोनों देशों के रिश्तों को आगे बढ़ाने पर बात करेंगे और उन्हें नया आयाम देने से हमारे सामने अवसरों का नया रास्ता खुलेगा। हमने अपने पुराने फैसलों को भी बेहतर तरीके से लागू किया। जमीनी स्तर पर इसके परिणाम देखने को मिल रहे हैं।”

मोदी ने भारत में क्रांति लाने काम किया
नेतन्याहू ने कहा, “आप क्रांतिकारी नेता हैं। आपने भारत में क्रांति लाने का काम किया है और इस देश का भविष्य को तय किया है। आपकी इजराइल विजिट अभूतपूर्व थी, ये किसी भारतीय लीडर की पहली इजरायल विजिट थी। पीएम मोदी आपका शुक्रिया।”

 “भारत में रहने वाले यहूदियों को उस तरह की विरोधी भावनाओं का सामना कभी नहीं करना पड़ा, जैसा कि दूसरे देशों में करना पड़ता है। भारत की सभ्यता, उदारता और लोकतंत्र को सलाम है।”

 “पीएम मोदी की इजरायल विजिट ने सभी इजरायलियों को उत्साहित किया था। उन इजरायलियों को भी उत्साहित किया था, जो भारतीय मूल के थे। मुझे ये एक रॉक कन्सर्ट जैसा लगा, लेकिन ये एक ऐतिहासिक घटना भी थी।”

“भारत में रहने वाले यहूदियों को उस तरह की विरोधी भावनाओं का सामना कभी नहीं करना पड़ा, जैसा कि दूसरे देशों में करना पड़ता है। भारत की सभ्यता, उदारता और लोकतंत्र को सलाम है।”

“पीएम मोदी की इजरायल विजिट ने सभी इजरायलियों को उत्साहित किया था। उन इजरायलियों को भी उत्साहित किया था, जो भारतीय मूल के थे। मुझे ये एक रॉक कन्सर्ट जैसा लगा, लेकिन ये एक ऐतिहासिक घटना भी थी।”

“हमें मुंबई की भयावह क्रूरता (26/11 अटैक) याद है, हम कभी भी पीछे नहीं हटेंगे और हम लड़ाई लड़ेंगे। मेरे भाई नरेंद्र अगर आप कभी भी मेरे साथ योगा क्लास करना चाहते हैं तो आपका स्वागत है।”

इन 5 वजहों से खास है नेतन्याहू का भारत दौरा

1. 15 साल बाद भारत आने वाले पहले पीएम
यह 15 साल में किसी इजरायली पीएम का दौरा है। इससे पहले 2003 में पीएम एरियल शेरॉन भारत आए थे। नेतन्याहू का यह दौरा भारत-इजरायल की दोस्ती के लिहाज से अहम है, क्योंकि यूएन में भारत ने येरूशलम को राजधानी घोषित करने के खिलाफ वोट किया था।

2. 3181 करोड़ रु. की एंटी मिसाइल डील हो सकती है
कुछ दिन पहले भारत ने इजरायल के साथ 3181 करोड़ रु. की एंटी टैंक स्पाइक मिसाइल डील और रॉफेल वेपंस डील निरस्त कर दी थी।

हालांकि अब कहा जा रहा है नेतन्याहू, मोदी के साथ इस डील को दोबारा कन्फर्म कर सकते हैं। इसके तहत इजरायल, भारत को 8000 एंटी टैंक स्पाइक मिसाइल देगा।

इस दौरे पर भारत, इजरायल के बीच 445 करोड़ रु. के जमीन से हवा में मार करने वाली 131 मिसाइलों समेत अन्य समझौते होंगे।

3. भारत को पाक सीमा पर चौकसी के लिए स्मार्ट बाड़ देगा
भारत ने पठानकोट हमले के बाद पाकिस्तान सीमा पर स्मार्ट बाड़ लगाने का फैसला किया था। इस स्मार्ट बाड़ की टेक्नोलॉजी इजरायल, भारत को दे रहा है।

स्मार्ट बाड़ इजरायल ने अरब देशों के साथ लगती अपनी 200 किमी की सीमा पर लगा रखी है। वह हवा में खतरे की वॉर्निंग एंड कंट्रोल करने वाला सिस्टम अवाक्स दे रहा है।

4. भारत-इजरायल रिश्तों के 25 साल
2017 में भारत-इजरायल की दोस्ती को 25 साल पूरे हो गए। दोनों देशों ने इसे सेलिब्रेट किया। पीएम मोदी इजरायल गए। वे इजरायल जाने वाले पहले पीएम थे।

 नेतन्याहू का यह दौरा भी इस दोस्ती को केंद्र में रखकर हो रहा है। यह दोस्ती 1999 में परवान चढ़ी, जब करगिल जंग के दौरान इजरायल ने भारत को सिर्फ एक बार कहने पर लेजर गाइडेड बम और मानवरहित प्लेन मुहैया कराया था। बड़ी मात्रा में गोला-बारूद भी दिया।

5. भारत हर साल इजरायल से 6400 करोड़ के हथियार लेता है
दोनों देशों के रक्षा, कृषि, साइबर सिक्युरिटी, मेडिसिन, सिनेमा, जल, रक्षा, फूड इंडस्ट्री, साइंस एंड टेक्नोलॉजी, व्यापार आदि क्षेत्रों में नए समझौते हो सकते हैं।

भारत और इजरायल के बीच हर साल करीब 25,452 करोड़ रु. का कारोबार होता है। भारत हर साल करीब 6400 करोड़ रु. के हथियार इजरायल से खरीदता है।

शादियां तो स्वर्ग में तय होती हैं
– मोदी के साथ मीटिंग से पहले नेतन्याहू ने कहा कि दोनों के मजबूत रिश्तों की शुरुआत मोदी के ऐतिहासिक इजरायल दौरे से हुई थी। उस यात्रा ने जोश भर दिया। ये मेरी विजिट तक जारी है। मैं, मेरी पत्नी और इजरायल के लोगों की तरफ से शुक्रिया अदा करता हूं। दोनों देशों के बीच पार्टनरशिप से लोगों की तरक्की और शांति आएगी।

“भारत और इजरायल के बीच दोस्ती का ये रिश्ता नए युग की शुरुआत है।”
 नेतन्याहू ने कहा कि हम भारत के यूएन में हमारे खिलाफ दिए गए वोट से नाखुश हैं लेकिन एक वोट से ही हमारे रिश्ते तय नहीं होते।

बता दें कि अमेरिका ने येरूशलम को इजरायल की राजधानी घोषित किया था। यूएन में भारत समेत 127 देशों ने इसका विरोध किया था। देखने वाली बात ये है कि दोनों देशों, दोनों देशों के लोगों और नेताओं के बीच रिश्ते हैं। भारत-इजर