1 फरवरी को पेश होगा आम बजट, 29 जनवरी से चलेगा बजट सेशन

0
18

नई दिल्ली। इस बार भी बजट सेशन की शुरुआत 29 जनवरी से होगी, जो 6 अप्रैल तक चलेगा। फाइनेंशियल ईयर 2018-19 के लिए मोदी सरकार 1 फरवरी को आम बजट पेश करेगी। सेशन का पहला भाग 29 जनवरी से 9 फरवरी तक चलेगा। इसके बाद 5 मार्च से 6 अप्रैल तक दूसरा भाग होगा।

इस बारे में शुक्रवार को सरकार ने नोटिफिकेशन जारी किया। बता दें कि मोदी सरकार ने सालों पुरानी परंपरा को बदलकर पिछले साल से जल्दी बजट पेश करना शुरू किया है। 
 
29 जनवरी को रखा जाएगा इकोनॉमिक सर्वे
– न्यूज एजेंसी के सूत्रों के मुताबिक, संसद में बजट सेशन राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद की स्पीच से शुरू होगा। 29 जनवरी को लोकसभा में इकोनॉमिक सर्वे पेश किया जाएगा। वहीं, 1 फरवरी को आम बजट पेश किया जाएगा।
 
पिछले साल से शुरू हुई नई परंपरा 
– बता दें कि फाइनेंशियल ईयर 2017-18 के बजट से पहले आम बजट फरवरी के अंतिम वर्किंग डे को पेश किया जाता था। लेकिन, मोदी सरकार ने सालों पुरानी यह परंपरा खत्म कर दी और जेटली ने पिछले साल 1 फरवरी को बजट पेश किया था।
 
बजट जल्दी पेश करने के पीछे ये है मकसद
– बजट जल्दी पेश करने के पीछे सरकार का तर्क है कि नए फाइनेंशियल ईयर की शुरुआत यानी 1 अप्रैल तक बजट के सभी प्रपोजल्स को मंजूरी मिल जाए, जिससे योजनाओं के लिए समय पर फंड मिले और उन्हें लागू कराने में देरी न हो।
– दूसरे बदलाव के तहत अलग से रेल बजट पेश करने की परंपरा भी खत्म की गई और उसे आम बजट में शामिल कर दिया गया था।
 
नए टैक्स प्रपोजल की उम्मीद कम 
– वित्त मंत्रालय के एक सीनियर अफसर ने बताया, “जीएसटी काउंसिल ने रेट तय किए गए हैं, इस वजह से फाइनेंशियल ईयर 2018-19 के बजट में नए टैक्स प्रपोजल की उम्मीद नहीं है। जीएसटी काउंसिल के हेड फाइनेंस मिनिस्टर जेटली हैं और इसमें सभी राज्यों के रीप्रेजेंटेटिव भी शामिल हैं। बजट में इनकम टैक्स और कॉरपोरेट टैक्स में किसी नई स्कीम या प्रोग्राम के साथ बदलाव का प्रपोजल हो सकता है।”