SBI ने बेस रेट 0.30% घटाया, कम होगी EMI

0
24

नई दिल्‍ली। स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने अपने कस्टमर्स के लिए बेस रेट में 0.30% की कटौती की है। अब होम लोन के लिए यह 8.95% से घटकर 8.65% हो गया है। नई दरें 1 जनवरी से लागू हो गईं। बैंक के इस फैसले से अप्रैल, 2016 से पहले होम, ऑटो या पर्सनल लोन लेने वाले कस्टमर्स को फायदा होगा।

 एक अनुमान के मुताबिक, 30 लाख के लोन पर हर महीने करीब 575 रुपए ईएमआई कम हो सकती है। बता दें कि एमसीएलआर (मार्जिनल कॉस्ट लेंडिंग रेट) पर लोन लेने वालों की ईएमआई में कोई बदलाव नहीं होगा।
 
MCLR पर लोन लिया है तो फायदा नहीं मिलेगा
कटौती का फायदा एसबीआई के सिर्फ उन्हीं कस्टमर्स को मिलेगा, जिन्होंने बेस रेट पर लोन लिया हुआ है। क्योंकि 1 अप्रैल, 2016 के बाद से सभी बैंक एमसीएलआर पर ही लोन दे रहे हैं। बता दें कि इंटरेस्ट रेट (ब्याज दर) तय करने के लिए रिजर्व बैंक ने MCLR की शुरुआत की थी।
 
होम लोन पर कितना होगा फायदा?
– अगर किसी ने 30 लाख रुपए का होम लोन बेस रेट पर 20 साल के लिए लिया है तो ब्‍याज दर 0.30 फीसदी घटेगी। इससे हर महीने करीब 575 रुपए ईएमआई कम होगी।  

लोन (रु. में)    बेस रेट     साल   ईएमआई 
30 लाख         8.95 %   20   26,895.38 रु.
30 लाख         8.65%    20   26,320.21 रु.
अब EMI में बचत                        575.17 रु.
(नोट- बेस रेट पर होम लोन सिर्फ आंकलन के आधार है। कस्‍टमर के होम लोन की असली ब्‍याज दर अलग हो सकती है)
 
ऑटो लोन पर कितनी बचत? 
– अगर 5 लाख रुपए का कार लोन 5 साल के लिए लिया है तो इसमें ब्‍याज दर 0.30 फीसदी कम होगी। ऐसे में ईएमआई करीब 73 रुपए घटेगी।  
लोन         ब्‍याज दर    साल     ईएमआई 
5 लाख रु.    9.65%     5   10,537.62 रु.
5 लाख रु.    9.35%     5   10,464.32 रु.
अब ईएमआई में बचत                   73.3 रु.
 
 बेस रेट और MCLR में क्या अंतर है? 
 बेस रेट: वह मिनिमम इंटरेस्‍ट रेट है, जिस पर बैंक कस्‍टमर्स को लोन दे सकते हैं। रिजर्व बैंक इसे मॉनिटर करता है कि कोई भी बैंक बेस रेट से कम पर लोन न दे पाए। एक अनुमान के मुताबिक, अभी

एसबीआई के 50-60% लोन बेस रेट पर ही हैं।  
MCLR: लोन का इंटरेस्‍ट रेट तय करने के लिए आरबीआई ने अप्रैल 2016 से इसकी शुरुआत की। एमसीएलआर के तहत बैंक ब्याज दर तय कर सकते हैं, जो लोन चुकाने के लिए बाकी सालों पर