वर्ष 2017 : सेंसेक्‍स ने दिया गोल्‍ड से 6 गुना ज्‍यादा रिटर्न, सिल्‍वर में घाटा

0
21

नई दिल्‍ली। हर साल लोग इसी उम्‍मीद से निवेश करते हैं कि उनको बेहतर रिटर्न मिले, लेकिन सबसे साथ ऐसा नहीं हो पाता है। वर्ष 2017 में ऐसा ही हुआ है। जिन लोगों ने म्‍युचुअल फंड और गोल्‍ड में निवेश किया था उनको बेहतर रिटर्न मिला, लेकिन जिन लोगों ने गोल्‍ड में निवेश किया था उनको बैंक FD जितना भी फायदा नहीं मिल पाया। जहां तक सिल्‍वर की बात है तो इसमें निवेश करने वालों को तो घाटा ही उठाना पड़ा। 

आपके 1 लाख रुपए कितने हुए
शेयर बाजार और म्‍युचुअल फंड के विस्‍तार के बाद भी आमतौर पर देश में दो ही प्रकार के निवेश प्रचलित हैं। इसमें से एक है बैंक व post office और दूसरा गोल्‍ड व सिल्‍वर। जहां तक बैंक या पोस्‍ट आफिस की बात है, यहां पर फिक्‍स ब्‍याज मिलता है। इसलिए यहां पर पैसा जमा करना इनवेस्‍टमेंट की श्रेणी में नहीं आता है। फिर भी अगर अापने बैंक या पोस्‍ट ऑफिस में 1 लाख रुपए लगाया होता तो जानें आपका पैसा कितना 2017 में कितना बढ़ा। 
 
बैंक FD में 1 लाख रुपए का निवेश कितना हुआ
-पिछले साल ब्‍याज दरें थी 7 फीसदी
-1 लाख रुपए हो जाते 1.07 लाख रुपए 
 
पोस्‍ट ऑफिस में कितना बढ़ता 1 लाख रुपए
-पिछले साल पोस्‍ट ऑफिस में भी 1 साल के जमा की ब्‍याज दरें 7 फीसदी थीं
-1 लाख रुपए का निवेश हो जाता 1.07 लाख रुपए 
 
 गोल्‍ड व सिल्‍वर में 1 लाख रुपए लगाया होता तो कितना होता 
गोल्‍ड व सिल्‍वर निवेश के लिए प्रचलित विकल्‍प हैं। लेकिन 2017 इन विकल्‍पों में निवेश करने वालों के लिए अच्‍छा नहीं रहा। जहां गोल्‍ड में केवल 4.40 फीसदी का रिटर्न मिला वहीं सिल्‍वर में तो निवेश करने वालों को घाटा ही उठाना पड़ा है। 
 
गोल्‍ड में निवेश का हाल 
31 दिसंबर 2016 को वायदा बाजार में सोने की कीमत 27445 रुपए प्रति 10 ग्राम थी, जो 25 दिसंबर 2017 को 28655 रुपए प्रति 10 ग्राम रही। इस प्रकार इसमें निवेश करने वालों का 1 लाख रुपए बढ़कर 1.04 लाख रुपए ही होता। 
 
 सिल्‍वर में निवेश का हाल  चांदी
चांदी में निवेश करने वालों को 2017 में 11.37 फीसदी का घाटा उठाना पड़ा है। सिल्वर की कीमत वायदा बाजार में 30 दिसंबर 2016 को 42588 रुपए प्रति किलो थी, जो 26 दिसंबर 2017 को 38238 रुपए प्रति किलो रही। यहां पर जिसने पिछले साल 1 लाख रुपए लगाया होगा उनका निवेश इस वक्‍त करीब 89 हजार रुपए बचा है।  
 
 सेंसेक्‍स ने दिया 30 फीसदी से ज्‍यादा का रिटर्न
हालांकि मुम्‍बई शेयर बाजार में 6 हजार से ज्‍यादा कंपनियां लिस्टिड हैं, लेकिन निवेशक अगर चाहे तो सिर्फ सेंसेक्‍स में निवेश कर सकता है। इसमें निवेश सेंसेक्‍स की 30 कंपनियों में किया जाता है और फंड में पैसे का एलोकेशन उसी तरह होता है जैसे सेंसेक्‍स में कंपनियों का वेटेल है। सेंसेक्‍स ने 2017 में 30.60 फीसदी का रिटर्न दिया है। अगर किसी ने सेंसेक्‍स में निवेश किया होता तो उसे गोल्‍ड की तुलना में 6 गुना से ज्‍यादा का रिटर्न मिला होगा। 

सेंसेक्‍स में निवेश का हाल
-जनवरी 2017 में सेंसेक्‍स में लगाया होता 1 लाख रुपए 
-दिसबंर 2017 तक यहां मिला 30.60 फीसदी का रिटर्न 
-1 लाख रुपए हो जाते 1.30 लाख रुपए 
 
 म्‍युचुअल फंड ने दिया सबसे ज्‍यादा रिटर्न 
म्‍युचुअल फंड में निवेश करने वालों को सबसे ज्‍यादा रिटर्न मिला है। यहां पर ढेरों फंड ऐसे हैं जिन्‍होंने 50 फीसदी से ज्‍यादा का रिटर्न दिया है। लेकिन सबसे ज्‍यादा रिटर्न 83 फीसदी तक एसबीआई स्‍मॉल एंड मिडकैप फंड ने दिया है। अगर किसी ने जनवरी 2017 में इस फंड में 1 लाख रुपए लगाया होगा तो उसी वैल्‍यू 23 दिसबंर 2017 को 1.83 लाख रुपए हो गई है।