पद्मावती के बाद ‘टाइगर जिंदा है’ पर बवाल

0
5

1 माह बाद दोबारा गोल्ड सिनेमा में तोड़फोड़, 2 जने गिरफ्तार

कोटा/जयपुर। एरोड्रम सर्किल स्थित आकाश मॉल के गोल्ड सिनेमा में शुक्रवार को एक बार फिर तोड़फोड़ हो गई। इसी सिनेमा हॉल में पिछले माह 14 नवंबर को फिल्म पद्मावती का ट्रेलर दिखाने के बाद जमकर तोड़फोड़ हुई थी। तब से सिनेमा हॉल बंद था। पांच दिन पहले ही फिर से शुरू हुआ और गुरुवार को सलमान खान स्टारर फिल्म alt147 टाइगर जिंदा है..’ के विरोध में आए लोगों ने तोड़फोड़ कर दी। पुलिस ने 2 प्रदर्शनकारियों को शांतिभंग में गिरफ्तार किया है।

मॉल के संचालक नितेश अग्रवाल ने बताया कि यह फिल्म शुक्रवार को ही रिलीज हुई। सुबह 9 बजे फिल्म का पहला शो चल रहा था। तभी वाल्मीकि समाज के कुछ युवक मॉल में घुस गए। प्रदर्शनकारियों ने एक गेट का शीशा तोड़ दिया और वहां लगे फिल्म के बोर्ड पोस्टर फाड़ दिए।

पुलिस ने आरोपियों में से कुछ को पकड़ लिया और बाहर खड़ी उनकी गाड़ियां जब्त कर ली। उधर, बड़ी संख्या में वाल्मीकि समाज के लोग गुमानपुरा थाने पहुंच गए और गिरफ्तारी का विरोध शुरू कर दिया।

कोई एफआईआर, ही कोई वाहन जब्त : पुलिस
सीआईआनंद यादव ने शाम को बताया कि इस मामले में मौके से 2 युवकों विक्की विनीत को शांतिभंग में गिरफ्तार किया था, जिन्हें एडीएम के समक्ष पेश कर दिया।

मॉल संचालकों की तरफ से कोई रिपोर्ट नहीं दी गई, इसलिए कोई एफआईआर दर्ज नहीं हुई है। वाहनों को जब्त करने की बात को भी उन्होंने नकार दिया। उधर, मॉल संचालक नितेश अग्रवाल ने कहा कि ऑडिट टीम आई हुई थी, इसलिए मैनेजर को वहां रोक लिया था। अब उसे भेजकर रिपोर्ट दर्ज करवा रहे हैं।

इसलिए हो रहा विरोध
सलमान खान ने अपनी फिल्म ‘टाइगर जिंदा है’ के प्रमोशन के दौरान एक टीवी शो में अपने डांस के टैलेंट के लिए जातिसूचक शब्द का इस्तेमाल किया था। वहीं, शिल्पा शेट्टी ने यह बताने के लिए कि वह घर पर कैसी दिखती हैं इसी जातिसूचक शब्द का प्रयोग किया था।

जयपुर के राजमंदिर सहित तीन सिनेमाघरों में भी तोड़फोड़
जयपुर में पद्मावती पर विवाद के बाद अब सलमान खान की फिल्म ‘टाइगर जिंदा है’ पर भी विवाद खड़ा हो गया है। वाल्मीकि समाज ने सलमान द्वारा समाज के लिए कहे गए आपत्तिजनक शब्द पर नाराजगी जाहिर करते हुए प्रदेश के कई शहरों में विरोध प्रदर्शन किया।

जयपुर में राजमंदिर सहित तीन सिनेमाघरों में तोड़फोड़ भी की। यहां पोस्टर-बैनर फाड़कर जला दिए गए। जयपुर में 50 से ज्यादा लोगों को शांतिभंग के आरोप में गिरफ्तार किया गया। एक दर्जन से ज्यादा वाहन जब्त किए गए।