बिटकॉइन भेजने पर 90 साल की सजा, जानिए किसने भेजे

0
20

नई दिल्ली। क्रिप्टो करेंसी बिटकॉइन की कीमत एक साल से भी कम समय में 1600 फीसदी से भी अधिक बढ़ चुकी है। कई लोग इसमें निवेश कर मालामाल हो चुके हैं। लेकिन शायद आपको इस बात का अंदाजा भी नहीं होगा कि इसे किसी को भेजने पर 90 साल  जेल की सजा भी हो सकती है। ऐसा ही एक मामला अमेरिका में आया है जिसमें एक महिला जांच एजेंसियों के घेरे में है।

किसको भेजे थे बिटकॉइन : न्यूयॉर्क की 27 साल की जुबैया शहनाज पर आरोप है कि उसने Bitcoin सहित अन्य क्रिप्टो करेंसी में 62 हजार डॉलर दुनिया का सबसे खतरनाक आतंकी संगठन आईएसआईएस को भेजे थे। न्यूयॉर्क न्यामिक विभाग के मुताबिक शहनाज ट्रायल का सामना कर रही है और उसपर दोष साबित हुआ तो उसे 90 साल जेल की सजा हो सकती है।

दर्जनों क्रेडिट कार्ड पकड़े गए: यूएस अर्टानी द्वारा फेडरल कोर्ट में दायर मुकदमें के मुताबिक इस साल की शुरुआत में शहनाज के पास से दर्जनों क्रेडिट कार्ड बरामद हुए। इसकी मदद से उसने पहले राशि निकाली और बाद में उसे क्रिप्टो करेंसी के जरिये आईएसआईएस को भेजा।

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक शहनाज अब तक कुल मिलाकर 1.50 लाख डॉलर आईएसआईएस को भेज चुकी है। हालांकि, इस बात की जांच अभी चल रही है कि 88 हजार डॉलर की राशि उसने कहां से जुटाई। यह अब तक का पहला मामला है जिसमें आतंकी संगठनों को क्रिप्टो करेंसी के जरिये राशि भेजने की बात सामने आई है।

ऐसे करती थी काम : यूएस न्यायिक विभाग की एक विज्ञप्ति के मुताबिक शहनाज यह सभी राशि व्यक्तिगत रूप से इस तरह भेजती थी जिसमें लेनदेन के सख्त नियमों से बचा जा सके। विज्ञप्ति के मुताबिक वह पाकिस्तान, चीन और तुर्की में फर्जी कंपनियों के नाम से यह राशि भेजती थी जो बाद में आईएसआएस को मिल जाती थी।

इस देश में भागकर जाने की थी योजना : रिपोर्ट के मुताबिक शहनाज की योजना पाकिस्तान और तुर्की होते हुए सीरिया भागने की थी। लेकिन जांच एजेंसियों ने उसे पहले ही पकड़ लिया। उस पर पांच मुकदमें चल रहे हैं।

चार मनी लॉन्ड्रिंग के और एक बैंक फर्जीवाड़े का है। रिपोर्ट के मुताबिक यदि वह दोषी साबित होती है तो मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में 60 साल और बैंक फर्जीवाड़ें में 30 साल जेल की सजा हो सकती है।