जो लिखते थे बाहर की जांच, अब उनकी होगी जांच

0
7

रामगंजमंडी। स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में मरीजों को चिकित्सालय से बाहर की दवाइयां लिखने व बाहर जांच कराने की शिकायत पर मेडिकल कौंसिल ऑफ राजस्थान जयपुर के रजिस्ट्रार ने चिकित्सालय के प्रभारी को जांच कर रिपोर्ट भेजने के आदेश दिए हैं।

रजिस्ट्रार डा. जगदीश मोदी के हस्ताक्षर वाला यह पत्र चिकित्सालय में पहुंचा तो चिकित्सकों में खलबली मच गई। शिकायत कर्ता के तौर पर इसमें तेजू खत्री का नाम लिखा हुआ है। जानकारी के अनुसार तेजू ने इस शिकायत को फर्जी बताते हुए चिकित्सा प्रभारी को पत्र सौपा है। खत्री ने पुलिस में भी लिखित शिकायत देकर उसके नाम से फर्जी शिकायत करने वाले के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई है।

26 अक्टूबर को आरटीआई कार्यकर्ता तेजू के नाम से की गई शिकायत में राजकीय सामुदायिक चिकित्सालय के छह चिकित्सकों पर चिकित्सालय समय में मरीजों को चिकित्सालय के बाहर लगी हुई लैब से जांच करवाने के लिए भेजने, चिकित्सालय की जांच रिपोर्ट को गलत बताने, मरीजों को बाहर की दवाइयां लिखने, दो संविदाकमिर्यों के चिकित्सालय समय के बाद अन्य निजी लेब पर कार्य करने, का आरोप भी लगाया गया है।

मेडिकल कौंसिल से रजिस्ट्रार ने 30 नवम्बर 17 को जांच के आदेश जारी किए, जो बुधवार को राजकीय सामुदायिक चिकित्सालय में प्रभारी डा. राजीव लोचन सक्सेना के पास पहुंचे।

उन्होंने शिकायतकर्ता तेजू खत्री को बुलाया तो उसने ऐसी कोई शिकायत नहीं करने की बात कही और चिकित्सा प्रभारी को लिखित में पत्र सौंपा। पुलिस वृत्त निरीक्षक को भी परिवाद देकर उसके नाम से फर्जी शिकायत करने वाले व्यक्ति के खिलाफ जांच कराने की मांग की गई है।

आया था जांच का पत्र
चिकित्सा प्रभारी रामगंजमंडी डा. राजीव लोचन सक्सेना का कहना है कि मेडिकल कौंसिल से जांच का पत्र आया था। शिकायत में तेजू खत्री का नाम लिखा हुआ होने से उसे बुलाया तो उसने ऐसी किसी तरह की शिकायत करने से इंकार किया। जांच कर पूरी रिपोर्ट बनाकर मेडिकल कौंंसिल को भेज दी जाएगी।