आरआईएल के मुनाफे में 11.5 फीसदी की बढ़ोत्तरी

0
19

मुंबई। मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज (आरआईएल) का शुद्घ मुनाफा मार्च 2017 में खत्म हुई चौथी तिमाही में पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही की तुलना में 11.5 फीसदी बढ़कर 8,053 करोड़ रुपये रहा। रिफाइनिंग और पेट्रोरसायन कारोबार के बेहतर प्रदर्शन की बदौलत कंपनी का मुनाफा बढ़ा है। मार्च 2016 तिमाही में कंपनी ने 7,220 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया था। समीक्षाधीन तिमाही में कंपनी का कुल कारोबार 45.2 फीसदी बढ़कर 92,889 करोड़ रुपये रहा।
 
कंपनी ने अपने बयान में कहा, ‘मजबूत रिफाइनिंग और पेट्रोरसायन मार्जिन से कंपनी को उच्चतर परिचालन मुनाफा हासिल करने में मदद मिली है। मार्च तिमाही में कंपनी की रिफाइनिंग मार्जिन आठ साल के उच्च स्तर 11.5 डॉलर प्रति बैरल रहा, वहीं पेट्रोरसायन का एबिटा मार्जिन 14 फीसदी रहा, जो पांच साल का उच्च स्तर है।’ जनवरी-मार्च तिमाही में कंपनी का सकल रिफाइनिंग मार्जिन 11.5 डॉलर प्रति बैरल रहा, जो दिसंबर तिमाही के 10.8 डॉलर प्रति बैरल से अधिक है।
 
रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने कहा, ‘पूरे वित्त वर्ष के दौरान कंपनी का सालाना मुनाफा 18.8 फीसदी बढ़कर रिकॉर्ड 29,901 करोड़ रुपये रहा। रिफाइनिंग और पेट्रो रसायन कारोबार ने रिकॉर्ड मुनाफा अर्जित किया। आने वाले समय में भी इसके कारोबार में अच्छी वृद्घि की संभावनाएं हैं।’ शेयर बाजार में टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज को पीछे छोड़ते हुए आरआईएल सोमवार को बाजार पूंजीकरण के लिहाज से सबसे मूल्यवान कंपनी बन गई।