शिक्षा नगरी कोटा जेईई-एडवांस्ड परीक्षा केंद्र से वंचित क्यों ?

0
23

पीसीसी महासचिव पंकज मेहता ने केंद्रीय एमएचआरडी मंत्री को पत्र भेजकर संभागीय मुख्यालय कोटा में ऑनलाइन जेईई-एडवांस्ड परीक्षा का सेंटर खोलने की मांग उठाई

कोटा । प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव पंकज मेहता ने बुधवार को केंद्रीय मानव संसाधन विकास मत्री प्रकाश जावेडकर को पत्र भेजकर मांग की कि राज्य के तीसरा बडे शहर व संभागीय मुख्यालय कोटा में जेईई-एडवांस्ड,2018 का ऑनलाइन परीक्षा केंद्र खोला जाए।

उन्होंने कहा कि यहां शांत शैक्षणिक वातावरण होने के कारण सभी राज्यों से प्रतिवर्ष 1.50 लाख से अधिक विद्यार्थी क्लासरूम कोचिंग तथा उच्च शिक्षा के लिए आते हैं। शिक्षा नगरी में 10 हजार से अधिक मेधावी विद्यार्थी जेईई-एडवांस्ड में चयनित होते हैं, ऐसे में यहां परीक्षा केंद्र नहीं खोलना शिक्षकों व विद्यार्थियों की कड़ी मेहनत के साथ खिलवाड़ है।

उन्होंने एक आईआईटी रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि कोटा आईआईटी के मुंबई जोन में आता है, इसीलिए इस जोन से प्रतिवर्ष सर्वाधिक परीक्षार्थी जेईई-एडवांस्ड परीक्षा में चयनित होते हैं। यहां के डेढ़ लाख कोचिगं विद्यार्थियों में बड़ी संख्या में गर्ल्स भी हैं। उन्हें भीषण गर्मी में बाहरी केंद्रों पर पेपर देने जाने में कई परेशानियां उठानी पड़ती है।

परीक्षा केंद्र की सुविधा कोटा में नहीं मिलने से बच्चों के अभिभावकों को सुदूर राज्यों से दो दिन पहले कोटा आना पड़ता है।  जेईई-मेन में प्रतिवर्ष कोटा से लगभग 50 हजार परीक्षार्थी पेपर देते हैं, उसमें से चयनित शीर्ष 10,000 परीक्षार्थियों को एक दिन पहले ट्रेनों से दूसरे शहरों में जाना पडे़गा।

इतनी बडी संख्या में ट्रेनों में रिजर्वेशन नहीं मिलने से बच्चे 46 डिग्री तापमान में बसों व टेक्सियों में जोखिम भरी यात्रा करने पर विवश होते हैं, जिससे उन पर मानसिक तनाव बढता है। लिहाजा विद्यार्थियों के हित में कोटा में इस प्रमुख प्रवेश परीक्षा का सेंटर खोला जाए।

टोंक व पाली में सेंटर तो कोटा में क्यों नहीं
मेहता ने आश्चर्य जताया कि आईआईटी संयुक्त प्रवेश बोर्ड ने राज्य के सभी परीक्षार्थियों को अवसर देने के लिए टोंक, पाली, भीलवाड़ा व सीकर जैसे छोटे शहरों में भी परीक्षा केंद्र घोषित कर दिए जबकि कोटा संभागीय मुख्यालय होने के बावजूद चारों जिलों के हजारों मेधावी विद्यार्थियों की अनदेखी कर दी गई।

कांग्रेस सेंटर को लेकर जनआंदोलन करेगी
देश में सेंटर चयन करने के मापदंड एक समान रखे जाएं ताकि कहीं कोई भेदभाव न हो। पहले भी शिक्षा नगरी में परीक्षा की सुरक्षा व गोपनीयता को लेकर कोई खतरा नहीं रहा।

उन्होंने कहा कि राज्य के 10 शहरों में ऑनलाइन परीक्षा केंद्र घोषित हुए तो कोटा में क्यों नहीं। यदि एमएचआरडी ने कोटा के मेधावी विद्यार्थियों के साथ भेदभाव जारी रखा तो कांग्रेस सेंटर को लेकर जनआंदोलन करेगी।