ग्लोबल राजस्थान एग्रीटेक मीट में 18 उपक्रमों के साथ 488 करोड़ के एमओयू

0
7

जयपुर। उदयपुर में चल रहे ग्लोबल राजस्थान एग्रीटेक मीट ‘‘ग्राम‘‘ में बुधवार को कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी एवं खान राज्य मंत्री सुरेन्द्रपाल सिंह टीटी की मौजूदगी में 18 उपक्रमों के साथ 488 करोड़ रुपये के एमओयू हस्ताक्षरित हुए। 

राज्य सरकार की ओर से कृषि एवं उद्यानिकी विभाग की प्रमुख शासन सचिव नीलकमल दरबारी और पशुपालन विभाग के सचिव अजिताभ शर्मा ने हस्ताक्षर किए। प्रंस्करण के 10, प्राईवेट मंडी का 1, ट्रेनिंग शिक्षा का 1, वेयर हाऊस और कोल्ड स्टोरेज के 4, नवाचारी फसल किनोवा का 1 और ग्रीन हाऊस फार्मिंग का 1 एमओयू हुआ। 

कृषि मंत्री  प्रभुलाल सैनी ने कहा कि इन एमओयू के माध्यम से 488 करोड़ का निवेश होगा तथा 7500 से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा। प्रदेश निश्चय ही प्रोसेसिंग, ग्रेडेशन और वेल्यूएशन के क्षेत्र में अग्रणी प्रदेश बनेगा। उन्होंने कहा कि सरकार 2022 तक किसानों की आमदनी को दोगुना करने को लेकर गम्भीरता से प्रयास कर रही है।

ऎसे में बडे स्तर पर निवेशकों द्वारा एमओयू के माध्यम से भागीदारी निभाना प्रदेश के किसान कल्याण के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कदम है। कृषि मंत्री ने कहा कि राजस्थान में उन महत्वपूर्ण वन उपजों की पहचान करने की जरूरत है जिनसे किसानों की आय मेें इजाफा हो सके।

साथ ही उन्हाेंने निवेशकों से कहा कि वे किनोआ जैसे एडवान्स्ड फूड प्रोडक्ट्स को नवाचार के रूप में उतारें जिससे प्रदेश के किसानों का बेहतर भविष्य तय हो सके। प्रमुख शासन सचिव (कृषि एवं उद्यानिकी)  नीलकमल दरबारी ने कहा कि राज्य में कृषि एवं कृ6ाकों की दिशा एवं दशा बदलने में निवेशकों की महत्वपूर्ण भूमिका है।

बाजार की मांग के अनुरूप उत्पाद की गुणवत्ता के लिए भी हम सभी को विशेष प्रयास करने होंगे। उन्हाेंने बताया कि राज्य में कुल 55 हजार करोड़ के निवेश होना महत्वपूर्ण है इससे राज्य को नई ऊंचाइयां मिलेंगी। समारोह में कृशि आयुक्त विकास सीतारामजी भाले ने आभार जताया।

इन उपक्रमों के साथ हुआ एमओयू-
उदयपुर ग्राम में बुधवार को 487.96 करोड़ के हस्ताक्षरित कुल 18 एमओयू में अलवर के तिजारा की वरदान एग्रोटेक एलएलपी के साथ 50 करोड़, सीकर के ओलिटिया फूड्स प्रा.लि. से 40 करोड़, नागौर के साईथेरिया इन्फ्रा एण्ड पावर्स प्रा. लि. से 40 करोड़, जयपुर/ऑस्ट्रेलिया के आयरन वुड केरियर एंड ट्रेनिंग से 37.5 करोड़, मंडाना (कोटा) के मुकुन्दरा इन्फ्रा प्रोजेक्टस से 33.45 करोड।

बूंदी के ओलिटिया फूड्स से 25 करोड़, केकड़ी (अजमेर) के राधा गोविन्द हाईटेक एग्रो फार्म्स से 24.5 करोड़, जयपुर के कम्प्यूकॉम टेक्नोलॉजिस प्रा. लि. से 20 करोड़, भीलवाड़ा के हितकर प्रोडक्टस से 18.7 करोड़, जोधपुर के पवन पुत्र वेफर्स प्रा.लि. से 18.56 करोड़, बारां के सत्यदेव एग्रोट्रेडर्स प्रा.लि. व सांगरिया (हनुमानगढ़) के सूरज एग्रो कॉओपरेटिव सोसाइटी से 15-15 करोड़, बारां से रामगोपाल कन्हैयालाल से 8 करोड़।

रामगंजमण्डी (कोटा) से सुविधा एग्रो इण्डस्ट्रीज से 6 करोड़, कोटा के आजाद एग्रो एन्टरप्राइज व चितौड़गढ़ के इनरबीइंग वेलनेस से 5-5 करोड़, गंगानगर के नवदुर्गा वेयरहाउस 117.25 करोड़ तथा जयपुर के रत्नावली डेयरी प्रॉडक्ट्स के साथ 9 करोड़ के एमओयू पर हस्ताक्षर हुए। इससे प्रदेश के साढे़ सात हजार से अधिक लोगों को रोजगार के अवसर मुहैया होंगे।