कंपनियों के तिमाही नतीजे तय करेंगे बाजार की चाल

0
15

नई दिल्ली । दो हफ्ते से तेजी के रास्ते पर बढ़ रही दलाल स्ट्रीट की नजर इस हफ्ते तिमाही नतीजों पर रहेगी। इस हफ्ते भारतीय स्टेट बैंक, टाटा मोटर्स और कोल इंडिया जैसी ब्लूचिप कंपनियों के नतीजे आने हैं। बाजार की दिशा तय करने में इन नतीजों की अहम भूमिका रहेगी।

बीते हफ्ते बाजार में अच्छी बढ़त देखने को मिली थी। बंबई शेयर बाजार (बीएसई) का सेंसेक्स 528.34 अंक की बढ़त लेकर अपने सर्वोच्च स्तर पर बंद हुआ। इससे पिछले हफ्ते भी सेंसेक्स में 767 अंक की तेजी आई थी।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी भी बीते हफ्ते 129.45 अंक बढ़कर अपना अब तक का सर्वोच्च स्तर छूने में सफल रहा। सैमको सिक्योरिटीज के जिमीत मोदी ने कहा, ‘तिमाही नतीजों का दौर चल रहा है। अब तक मिलेजुले नतीजे देखने को मिले हैं।

अब तक कोई ऐसा ट्रेंड देखने को नहीं मिला है, जिससे अर्थव्यवस्था की स्थिति को सही-सही आंका जा सके। जीएसटी और नोटबंदी का कुछ क्षेत्रों पर असर स्पष्ट रूप से दिखा है, वहीं कुछ क्षेत्रों पर इनके प्रभाव को लेकर अब भी अनिश्चितता है।’

अन्य बाजार विशेषज्ञों का मानना है कि निवेशकों की धारणा सकारात्मक बनी हुई है। हालांकि कच्चे तेल (क्रूड) की बढ़ती कीमतें भारतीय बाजार में चिंता की वजह बन सकती हैं।

टॉप-10 में से आठ का मार्केट कैप बढ़ा
सेंसेक्स की शीर्ष दस में से आठ कंपनियों के बाजार पूंजीकरण (मार्केट कैप) में बीते सप्ताह कुल 86,932.41 करोड़ रुपये का इजाफा हुआ। समीक्षाधीन सप्ताह में एयरटेल का बाजार पूंजीकरण 22,486.25 करोड़ बढ़कर 2,16,399.25 करोड़ रुपये पर पहुंच गया।

सप्ताह के दौरान एचडीएफसी, एसबीआइ रिलायंस इंडस्ट्रीज, टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, मारुति सुजुकी इंडिया और ओएनजीसी के बाजार पूंजीकरण में भी बढ़ोतरी हुई। शीर्ष दस में सिर्फ आइटीसी और हिंदुस्तान यूनिलीवर के एमकैप में गिरावट आई।