ब्याज मुक्त फसली ऋण वितरण में राजस्थान सबसे अग्रणी -सहकारिता मंत्री 

0
23

जयपुर। राज्य सरकार किसानो के हितो को सर्वोपरी रखती है और यही कारण है कि ब्याज मुक्त फसली ऋण वितरण में राजस्थान देश में सबसे अग्रणी राज्य है।  यह बात सहकारिता मंत्री अजय सिंह किलक ने शुक्रवार को डूंगरपुर जिला मुख्यालय पर लगभग 98.99 लाख की लागत से बने सहकार भवन डूंगरपुर के उद्घाटन समारोह में उपस्थितजन को संबोधित करते हुये कही। 

उन्हाेंने शायराना अंदाज में कहा की ‘लक्ष्य और मंजिले बड़ी जिद्दी होती है लेकिन तुफान भी वहां हार जाते हैं, जहां कश्तियों की ज़िद होती है। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि राज्य सरकार ने अनूठी पहल करते हुये बिना ब्याज फसली ऋण को दुर्घटना बीमा कर कई सौ किसानो को लाभान्वित किया है।

साथ ही सहकार किसान कल्याण योजना में ब्याज की प्रतिशत की दर को कम कर भी कृषकों को राहत प्रदान की गई है। उन्होेंने बताया की भूमि विकास बैंक में भी ब्याज दर 12 प्रतिशत से घटाकर लगभग 6.7 प्रतिशत कर दी गई है। 

इस अवसर पर उन्होंने जिला को-ऑपरेटिव बैंक अध्यक्ष को जिले मेें लेम्पस को मजबूत बनाने के प्रयास करने, किसानो के खाते खूलवाने, योजनाओं के व्यापक प्रचार प्रसार कर करने के लिये अभियान चलाने के भी निर्देश दिये। 

इस अवसर पर जिला प्रभारी मंत्री ओटाराम देवासी ने कहा कि राज्य पिछले तीन वर्षों में को-ऑपरेटिव बैंक सेक्टर में कई नवाचार करते हुये अनूठी पहल की गई है। उन्होंने रूपे कार्ड, ऑनलाईन व्यवस्था जैसी योजनाओं के लिये राज्य सरकार का आभार व्यक्त किया। 

इस मौके पर संसदीय सचिव भीमा भाई ने नवाचारों को अपनाते हुए सहकारिता के माध्यम से किसानों के हितों के लिये शुरू की गई लाभकारी योजनाओं के लिए राज्य सरकार का आभार व्यक्त किया। 

कार्यक्रम में राजस्थान जन अभाव अभियोग अध्यक्ष श्रीकृष्ण पाटीदार ने कहा की जनजाति क्षेत्र को सहकारिता की महत्ती आवश्यकता है। उन्होंने सहकार भवन को किसानो के लिए सौगात बताते हुये कहा की सहाकरिता के माध्यम से किसानो की सेवा करना हमारा सौभाग्य है। 

कॉपरेटीव बैंक अध्यक्ष बद्रीनारायण शर्मा ने प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत कि साथ ही कृषि उपज मंडी खरीद केन्द्र, डेयरी संयत्र स्थापित करने का भी अनुरोध किया। इस अवसर पर सहकारीता मंत्री को समिति के लाभ में से लाभांश एक लाख पांच हजार चार सौ पचास रुपये का चैक भी भेंट किया गया। 

समारोह के प्रारंभ में अतिथियों का परम्परागत तरीके से स्वागत किया गया। उपरजिस्ट्रार विष्णु मीणा ने स्वागत उद्बोधन प्रस्तुत किया। इस अवसर पर बड़ी संख्या में लेम्पस अध्यक्ष, व्यवस्थापक उपस्थित थे।