MSME ग्राहकों को रियायती दर पर कर्ज देगा एसबीआई

0
42

मुंबई। देश के सबसे बड़े सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई)  ने आज कहा कि उसने अपने सूक्ष्म, लघु एवं मझाोले (एमएसएमई)  ग्राहकों को अल्पकालिक कार्यशील पूंजी मांग ऋण प्रदान करने के लिये एक नया उत्पाद पेश किया है।

नए उत्पाद को एसएमई असिस्ट नाम दिया गया है, इसके तहत एमएसएमई ग्राहकों को माल एवं सेवा कर के तहत फंसे इनपुट क्रेडिट दावों के आधार पर ऋण दिया जाएगा। बैंक ने बयान में कहा कि ग्राहकों को ऋण रियायती ब्याज दर पर मिलेगा।

बैंक के मुख्य महाप्रबंधक एसएमई वी रामलिंग ने आज यहां अपने बयान में कहा, यह उत्पाद सूक्ष्म, लघु एवं मझाोले उद्योगों को इनपुट क्रेडिट प्राप्त होने तक उनकी कार्यशील पूंजी की आवश्यकता का प्रबंधन करने में मदद करेगा। इससे एसएमई उद्योगों को बिना किसी रुकावट के परिचालन करने में मदद मिलेगी।

इस योजना के तहत ण प्रसंस्करण शुल्क 2,000 रुपये है। ऋण आवेदन के लिये कंपनियों को चार्टर्ड अकाउंटेंट से इनपुट क्रेडिट दावों की पुष्टि वाला प्रमाण पत्र देना होगा।बैंक ने कहा कि इस योजना के तहत एसएमई ण लेने वालों को तीन महीने की अवधि की स्थगन अवधि दी जायेगी।

स्थगन अवधि बीत जाने के बाद एसएमई ग्राहकों को एक साथ या अगले 6 महीनों में 6 किस्तों में पूरी राशि का भुगतान करना होगा। बैंक के एसएमई ग्राहक 31, मार्च 2018 तक ऋण ले सकते हैं।